most 1

Wednesday, February 7, 2018

हमारे Business की पूरी जानकारी

February 07, 2018 0 Comments
हेल्लो दोस्तो कैसे हो....?
मैं आज आपको कुछ ऐसी चीज़ लेकर आया हु जिस की हर इंसान को जरूरत होती है । और उसे पड़ कर आपका दिल खुश हो जाएगा...!
जी हाँ....
आज मैं आपको बताऊंगा के हम बिजनेश और बो भी बिल्कुल कम पेसो में कैसे सिरु कर सकते है । और बो भी बिल्कुल एक दम अच्छा और BIP बिजनेस ।
दोस्तो थोड़ा सा पैसा जरूर लगेगा लेकिन बो आपकी जिंदगी बदल कर रख देगा और आगे आने बाले महगाई के जमाने मे बो हमारा खूब साथ निभाएगा ।
दोस्तो आप से बस के गुजारिस है के PLEASE आप पूरा पड़े तभी आपके समझ मे आएगा के हम कम पेसो में और एक अच्छा बिज़नस कैसे तैयार करे...??
दोस्तो मैं जिस कंपनी के मिलकर बिजनेस करने की बोल रहा हु उस कम्पनी का नाम है DBA ..
मुझे पता है DBA का नाम सुनते ही आपके दिमाक में नए नए  negative question आने सिरु हो गए होंगे । लेकिन आप कृपया एक बार पूरा पदों तभी आपके समझ मे कुछ आएगा और मैं ये बादा कर रहा हु के आप ये बिजनेस जरूर करेंगे बस आप इसे अच्छी तरह समझो फिर अपना खुद का फैसला लो ...
दोस्तो मेने खुद ने इस कंपनी के साथ मिल कर अपना बिजनेस सिरु किया और मात्र 90 दिनों के अंदर मेने अपने खुद के पेसो से एक अच्छी गाड़ी खरीद ली और मैं आज अच्छा पैसा भी कुमा रहा हु ...!
और मैं ये बादा करता इस बिजनेस को जरूर करोगो लेकिन उस के लिए आप थोड़ा इसे गौर के साथ पड़ो ।
कंपनी है DBA
D= DYNAMIC
B= BENEFICIAL
A= ACCORD marketing private limited company
ये कंपनी प्रारम्भ हुई थी
11:11:2011 में
दोस्तो इस कंपनी ने 5 साल तक ऑफलाइन ही काम किया लेकिन बढ़ते इंटरनेट के साधन + लोगो के बक्त को देखते हुए ये कंपनी 7 दिसंबर 2016 को ऑनलाइन हुई और फिर तो ये एक दम जंगल की आग की तरहा हर शहर में फेल गई और कई बेरोजगार लोगो को रोजगार दिलाया उनका खुद का बिजनेस कर के ...!
दोस्तो मैं जिस कंपनी की बात कर रहा हु उस के बेस तो कई जगह सेंटर है लेकिन मैं जहां अपना बिजनेस करता हु बो
जयपुर में है ।
उस का पता है :- पिलोट नंबर 489, ओमैक्स सिटी , बाद के बालाजी अजमेर रोड ,
अब आप सोच रहे होंगे कि इस से हमे क्या मतलब हमे तो ये क्या काम करती है बो देखना है तो दोस्तो मैं बताता हूं के कंपनी का काम क्या है -:- दोस्तो इस कंपनी ने फैसन के साथ डील कर रखी है । यानी ये कंपनी हर उस प्रोडक्ट को बनाती है जिस से इंसान फेसन करता है
जैसे :- इस के प्रोडक्ट है
Gouernment 【 यानी जिस में हर तरह के कपड़े आते हो 】
accessories
Cosmetic
दोस्तो अब आप सोच रहे होंगे कि हर चीज़ का एक ब्रांड होता है जिस से बो अच्छी तरह से सेल होता है क्या इस का भी कोई ब्रांड होगा ?
तो मैं कहूंगा कि हाँ....!
इस कंपनी के दो ब्रांड हक़ी
【1】ifazon
【2】earthyscent
अगर बात की जाए इसकी ब्रांच की तो इस के 70 से भी ज्यादा अब तक ब्रांच हो चुकी है ।
Achienement =}  दोस्तो इस कंपनी ने जहां भी अपना झंडा गाड़ा बो सक्सेज ही हुआ और जब कोई चीज़ अच्छी तरह से चलने लगे तो उस का टैक्सेज भी देना होता है तो इस ने पंजाब सरकार को एक साल का 8.5 करोड़ टैक्स दिया ! और दोस्तों आप ये बात अच्छी तरह जानते हो की इतना tex pay कंपनी तभी कर सकती है जब कंपनी एक दम फेल जाये और चलने लगे तो दोस्तों ये सब कुछ ऐसा ही हुआ के कंपनी अच्छी तरहा चलना क्या दोस्तों कंपनी तो दौड़ने लगी यारो और इस ने कुछ ही दिनों में लाखो लोगो को लाखों रूपये का business दिया । आप भी कर सकते हो पर मै आपको आपका भी प्रोसेस बताता हूं ।
जैसे की मेने आप को बता दिया है के इस कंपनी ने फेसन के साथ डील कर रखी है अब आप सोच रहे होंगे की इस कंपनी ने फैसन को ही क्यों चॉइस किया :- तो मै आप को बता दू के जो फैशन है बो इंसान के जन्म लेते ही सिरु हो जाता है और जब तक उस की म्रत्यु हो तब तक उस के साथ होता है ।
बो ऐसे के जब बच्चा पैदा होता है तो उस को जिस तौलिये में लपेट कर जो नर्स आती है बो भी एक फैशन है । फैशन हमेशा बढ़ता ही जायेगा ।
फैसन दिन पर दिन बढ़ता ही चलाता है ।
तो दोस्तों आप शायद समझ गए होंगे की कंपनी ने फैशन को ही क्यों चोहिस किया है ।
दोस्तों अब

Thursday, November 23, 2017

10th पास युवक - युवतियों के लिए नौकरी और 100% जोइनिंग तनखा 15500 + रहना और खाना

November 23, 2017 0 Comments
10th पास युवक - युवतियों के लिए जॉब और 100% जोइनिंग तनखा 15500 रहना खाना फ्री
 हेल्लो दोस्तो.....


दोस्तो यकीन नही हो रहा होगा ना ???
मुझे भी नही हुआ था लेकिन ये सच है और अभी तो आपकी आंखें फटी के फटी रह जाएंगी जब आप इस के आगे और दी जाने बाली सुभिधाओ के बारे के सुंनेगे । जी हाँ अभी तो बहुत कुछ बाकी है ।
पर पहले थोड़ी मेरी बात । दोस्तो आपके हमारे और हर इंसान का कोई ना कोई सापना होता है के में ऐसा कोई काम करू जिस से मेरी लाइफ सेट हो जाये । लेकिन दोस्तो इस महगाई के जमाने मे इंसान को दो बक्त की रोटी जुटा पाना मुश्किल हो जाता है । और इसी मुश्किल को दूर करने के लिए हमारी कंपनी हर उस इंसान को ले रही है जिस का कोई सपना हो और बो उसे पूरा नही कर पा रहा हो , इंसान के अंदर एक जज्बा होना चाहीये की बह अपने आप को बदल सके
 What's work... काम क्या करना होगा :- कंपनी में काम है online prodect selling  , मतलब आपको ऑनलाइन सामान को बेचना है जो कि official work  है । ये work सिर्फ ऑफिस से ही होगा ना कि घर घर जाकर । आपको ये काम कम्प्यूटर से ही करना होगा

    How long duty... काम कब से कब तक रहेगा :- इस मे काम करने का समय है सुबह 9:00 बजे से दोपहर 3:00 बजे तक ।
Salary What will  be happen :- तनखा क्या होगी :-   शरुआत में आपकी इनकम 15500 से चालू है और फिर जितना ज्यादा आप काम करते हो prodect sell करते हो बेसे ही आप ज्यादा इनकम भी प्राप्त कर सकते हो । और 3:00 के बाद आप 5:00 बजे तक over taim भी कर सकते हो
Where will i live :- रहने खाने का क्या होगा :-  रहने और खाने का पूरा खर्च कंपनी ही उठाएगी । 
                                       
  How will admission?... :- कंपनी को जॉइन कैसे करेंगे ?...:-    दोस्तो इस कंपनी  में जब आप जाओगे तो पहले आपकी 4 दिन ट्रेनिंग चलेगी जो कि फ्री दी जाएगी । आपको कंपनी के बारे में अच्छे से पढ़ाया जाएगा , आपको किस तरीके से काम करना होगा वो भी सिखाया जाएगा  । जब आप  4 दिन की ट्रेनिंग लेते हो तब 5 बे दिन आपका Interview होगा । यदि आप Interview मे पास हो जाते हो तो आपका एक ID CARD बनेगा जिस से आप को लाइफ टाइम के लिए एक फिलेट मिलेगा औए खाना भी कंपनी की तरफ से ही मिलेगा । ये तभी होगा जब आप Interview पास कर लेते हो इस से पहले कंपनी अपने Flat मे रखने की अनुमति नही देती ।  यदि आप का कोई   Relative जयपुर में रहता है तो आप वहां रुक सकते हो और आपका कोई में Relative नही रहता हो  और आप फिलेट पर रुकना चाहते हो तो आप रुक सकते हो लेकिन आप फिलेट पर रुकोगे तो कंपनी आप से 2000 रुपये लेगी इन पेसो में कंपनी आपको रहना + खाना और पूरी फेसलिटी देगी + आपके सीनियर जो इस में काफी टाइम से work कर रहे है उनसे आपको बहुत कुछ सीखने को मिलेगा जो आपका Interview पास कराने में आपकी हेल्प करेंगे । और यदि आप Interview पास कर लेते हो तो फिर उस के बाद में आपका कोई चार्ज नही लेगी ! Lifetime के लिए आपका रहना + खाना फ्री ।
What is training time ?...:- प्रशिक्षण का समय क्या है?..:- ट्रैनिंग का समय सुबह 8:00 बजे से चालू है और दोपहर 2:00 बजे तक होगा । यदि कोई parsan अगर 10 मिनट भी लेट होता है तो उसे प्रबेश नही दिया  जाता है ।
When are the vacancies released in the company? :-
 कंपनी में जगह कब निकलती है :- दोस्तो ये कंपनी 11/11/2011 को 11:11:11 पर चालू हुई थी तब इस के अंदर सिर्फ ऑफलाइन ही काम होता था । फिर बढ़ती फेसलिटी और इंटरनेट के फैलने के कारण लोग अपना सामान फिर इंटरनेट से यानी ऑनलाइन मंगाने लगे तो इस कंपनी ने भी अपना काम ऑनलाइन 2016 में ऑनलाइन शरू कर दिया । और इस मे इसे काफी अच्छा लाभ दिखा । फिर ये बढ़ती चली गई और बढ़ने के साथ साथ इस मे students की भी जरूरत बढ़ती चली गई । और इस कंपनी में हर महीने में दो बार युवक - यूवतियो की जोइनिंनग होती है ।। 
     How much date is joining now?...
अब कितने तारिख को ट्रेनिंग होगी?.... :- ये तारीख इस कंपनी के अधिकारी ही तय करते है लेकिन हर महीने में दो बार जरूर होती है ।
Document क्या चाहिए :-  कम से कम 10th पास ।
Age ( उम्र ) :- 18 से 27 के बीच मे ।
What is the address? :-
कंपनी का पता क्या है :- कंपनी इंडिया  में काफी जगह फैली हुई है लेकिन इस मे जोनिंनग होने के लिए पहले जयपुर आना पड़ता है यही आपकी ट्रेनिंग होगी ।   
   इस का address है :-'' plot no. 489 Omax city Bad ke balaji Ajmer road , Jaipur "     
दोस्तो ये तो थी कंपनी की पूरी जानकारी अब यदि आप के दिमाक में कोई सबाल आ रहा हो तो आप इस नंबर पर job लिख कर व्हाट्सएप पर मेसेज कर सकते फिर आपके हर सबाल का जबाब दिया जाएगा और किसी को ये कंपनी अच्छी लगी हो और बो इस मे जॉइन होना चाहता हो तो इस नंबर                         number  7014406875

पर अपना resume भेज दे आपको ट्रेनिंग के बक्त फोन कर दिया जाएगा । दोस्तो इस नंबर पर कॉल ना करे यदि आपको बात करनी है तो      【 please call me 】लिख कर मेसेज भेज देना आपको हमारी कंपनी की तरफ से फोन कर दिया  जायेगा ।
धन्यबाद ...............                                                                                                                       

Thursday, July 27, 2017

आत्मबिशबास है तो आपकी जीत है । जिंदगी सफल कैसे.?ऐसे.! पड़ो....!

July 27, 2017 0 Comments

एक साँस सबके हिस्से से हर पल घट जाती है, 
कोई जी लेता है जिंदगी किसी की कट जाती है।




दोस्तो आज हम कितने साल के हो गए ये हर इंसान अपने बारे में जानता है ,
लेकिन कितना और जियेंगे ये किसी को पता नही ।  दोस्तो मौत और ज़िन्दगी का कोई भरोसा नही कब ये जीबन की सांस की डोर टूट जाये कब जीबन के बक्त की घड़ी थम जाए ये किसी को नही पता । तो ऐसे में जिदगी जिंदगी को  जियो खुलकर जियो अगर जिंदगी में कोई टेंसन हो तो उसे शेएर करो अपने माता पिता से दोस्तो से या अपने पार्टनर साथ जिस से टेंसन का हल निकले ओर टेंसन हल्की हो । दोस्तो जिन्दगो को जीने के लिए आत्मनिर्भर और आत्मबिशबास बहुत जरूरी है दोस्तो अगर आत्म बिसबास इंसान के अंदर हुआ तो उस के लिए किसी पहाड़ को तोड़कर दूसरी जगह करना भी आसान लगेगा । और बो हर काम को कर सकता है । एक बात और कभी भी दूसरों के भरोसे में आकर कोई काम ना करे ...!
आप तो अपने ऊपर बिसबास करो बस ।
सुनो सब की लेकिन करो मन की । आपके मन मे जब तक ये बात है के मैं सही हु और ये काम मैं  कर सकता हु तब तक आपकी जीत है । जब आप के मन ने हार मान ली तो समझो के आप हार गए । चाहे आप कोई काम करो या ना करो । दोस्तो आज मैं आपको कुछ इस तरह ही एक कहानी लेकर आया हु  जो कि  जिसे आप पड़ कर सायद हसेंगे भी और उस से कुछ सिक्छा भी प्राप्त करेंगे । चलिए दोस्तो अपनी उस कहानी पर आता हूं ।
दोस्तो एक गांब में एक बूढ़ा ब्यक्ति रहता  था जिस का नाम था । दीनदयाल ....
दीनदयाल बहुत ही चालाक किस्म का इंसान था लेकिन बो दुसरो की बातों पर कभी कभी बिसबास कर लिया करता था जिस से बो कभी ठग भी जाता था   बो बुजुर्ग जरूर था लेकिन उस के सरीर में अब भी इतनी फुर्ती थी के जब बो चलता था तो जबान आदमी भी उस की चाल में पीछे रह जाये करते थे । दीनदयाल अपने एक छोटे से परिबार के साथ रहता था उस के परिबार में कुल चार सदस्य थे दो तो दीनदयाल और उस की पत्नी और एक उस का लड़का  और उस की  बच्ची । एक दिन दीनदयाल ने पड़ोस बकरी बाले से थोड़ा सा बकरी का दूध मांगा  लिया  तो उस ने दीनदयाल को फटकार कर मना कर दिया और कुछ ऐसी भी बाते बोल दी जिस से अपने बह मन ही मन प्रण कर बेठा के अब तो साली बकरी ही लानी है । चाहे कुछ भी हो जाये मैं आज एक बकरी ही खरीद कर मानूँगा



 ! बस फिर क्या था बो बकरी खरीदने दूसरे गांब के लिए चल दिया । और अपने घर से 20 -  25  किलोमीटर दूर पैदल पैदल चल कर बो एक बकरी खरीदने में कामयाब हुआ ।
जब बो वँहा  से आ रहा था तब चार ठगों की नज़र उस पर पड़ी । और उनमे से एक  बोला
:- रे बापू बकरी तो घनी जोर की है  भाइयो इस बाबे से तो ए बकरी मानह घाड़नी है ।
दूसरा बोला :- अरे हाँ भाइयो चलो इस बुजुर्ग को बेबकूफ बनाते है और इस बाकरी को इस से लूटते है ।
:- तीसरा बोला :-आ रे  इस बुड़ाऊ को मैं अच्छी तरह जानता हूं ये दीनदयाल है बहुत चालाक बुड्ढा है ये किसी के बाप पर भी बेबकूफ नही बन सकता । चौथा बोला :- रे तुम लोग कोहू चिंता ना करो मेरे पास एक ऐसा आइडिया है के बुड्डा अपने आप इस बकरी को हमारे हबाले कर देगा बो भी बिना किसी लड़ाई झगड़े के .....!!!!!
  तीनो उस की तरफ देखे और उसने अपना पिलान बताया ।
दोस्तो उस का पिलान बाकी दमदार था के बो बुजुर्ग अपनी बकरी को हस्ते हस्ते उसे दे गया अब मैं बताता हूं के क्या पिलान बनाया  था  उन्होंने...👌👌
बो चारो चार किलोमीटर तक फैल गए यानी जिस रास्ते से बो बुजुर्ग गुजर रहा था तो बो उस रास्ते  पर एक एक किलोमीटर दूर चले गए । सबसे पहले उस बुजुर्ग को एक ठग मिला और बुजुर्ग के पास आकर बोला :- अरे काका नमस्ते
बुजुर्ग सोचते हुए ..... नमस्ते
अरे काका आप का कुत्ता तो बड़ा सुंदर है अरे बाह कितना प्यारा लग रहा है ।
बुजुर्ग ने उस को गौर से देखा और सोचने लगा के पागल तो नही है ये और बोला के अबे भड़बे तुझे ये कुत्ता दिखता है पागल तो नही हो गया है तू ?
तो ठग बोला अरे काका क्या बोल रहे हो ये कुत्ता है ....! आपकी आंखें तो ठीक है ना ...?
तो दीनदयाल को गुस्सा आया और गुस्से में बोला के हॉ कुत्ता है तुझे क्या चले जा नही तो साले पसलियो में हबा भर दूंगा ।  कुत्ता बता रहा है साला हमे बेबकूफ समझ रहा है ।
दीनदयाल उसे छोड़ कर आगे बढ़ जाता है और चलते चलते बो एक किलोमीटर दूर पहुच जाता है तो उसे दूसरा ठग मिल जाता है ठग उसे देखकर उस के पास आता है और बोलता है
रे काका प्रणाम ....
दीनदयाल उसे देखता है और बोलता है प्रणाम ।
तो बो ठग बोलता है के काका तुम्हारा कुत्ता तो घनी जोर का है । कितने का लाया इसे । काठता तो नही है न ये...?
दीनदयाल उस की तरफ गौर से देखता है के इसे कुछ दिख रहा है या नही ।
फिर बोलता है के तुझे कुत्ता दिख रहा है ये ....
अबे तेरी आखो में ऑइल डाल के आ अंधे ये मेरी बकरी है पागल समझ रहे हो क्या तुम मुझे ???
बो ठग बकरी का नाम सुन कर जोर जोर से हँसने लगता है  और बोलता है बकरी....????
अरे बाबा तुम्हारा दिमाक तो खराब नही हो गया इसे किसी के सामने बोल और मत देना के ये बकरी है बरना लोग आपको पागल समझेंगे ।
दीनदयाल को गुस्सा आया और बो उसे भासन सुनाते हुए आगे बढ़ गया  । जब बो एक किलोमीटर दूर पहुच गया तो उसे तीसरा ठग बोला
रे बाबा कहा जा रहे हो ???
अपने घर जा रहा हु बेटा ।
रे ये कुत्तो कहा से लायो भारी अच्चो लाग रायो ।
दीनदयाल को गुस्सा आया पर कुछ ना बोला और आगे बढ़ लिया लेकिन अब  बो उस बकरी को बार बार देखता है और फिर अपने सिर को खुजराता । बो बार बार उस के मुँह और उस के थून और  बार बार कहता के ये बकरी है ये नालायक झूठे है  फिर सोचता के यार जो भी  मिल रहा है बो यही बोल रहा है ।
बो फिर चल दिया  ! फिर एक किलोमीटर चलने के बाद उसे चौथा ठग मिला
और बोला के रे बाबा के हाल है । कहा जा रहे हो  अपने कुत्ते के साथ ।
अब तो दीनदयाल से भारी हो गई और गुस्से में उससे बोला के तुझे ये कुत्ता दिख रहा है क्या । ये मेरी बकरी है जो अभी ले कर आया हूं ।
चौथे ठग ने बहुत डेंजर एक्टीनग की रे बाबा पागल हो गए हो क्या गांब बाले तो दूर घर बाले भी तुम्हे अपने घर मे घुसने नही देंगे अगर तूने इसे बकरी बताया तो
ये कुत्ता है मैं कुत्ता और बकरी में अच्छी तरह फर्क जानता हूं ।
दीनदयाल ने अब मान लिया के ये कुत्ता है क्यो की इतने आदमी नही बोल सकते ऐसा ।
अब दीनदयाल सोचने लगा के अगर मैं इस को घर ले जाऊंगा तो मेरे बच्चे और बीबी तो मुझे पागल समझेंगी । तो बो उस बकरी की रस्सी को उस इस चौथे ठग के हाथों में थमाकर बोला के ये कुत्ता आपको अच्छा लग रहा है ना तो कृपया कर के आप ही इसे ले लो । इतना कह कर बह अपने गांब फिर की ओर चल दिया । और अपने घर आ गया ।
 यानी
दीनदयाल हिम्मत हार गया क्यो की उस का आत्मबिशबास कमजोर था । तो दोस्तो असली में तो आपको इस कहानी से ये समझाना चाहता हु के इंसान का आत्मबिशबास जब तक जिंदा है तब तक इंसान जिंदा है यानी बो इस जमाने से लड़ने की ताखत रखता है ।  फिर बो इस जिंदगी को अपने दम पर जीने का साहस रखता है और दोस्तो जिस का आत्मबिशबास कमजोर है बो या तो दूसरों के टुकड़ो पर जियेगा या भीख मांगेगा । तो दोस्तो हिम्मत मत हारो कोई भी काम हो अगर बो काम तुम्हारे लायक है तो ना ही तो समय का इंतज़ार करो और ना ही किसी सलाहकार का । बस उसे कर डालो , तो एक नया एक बार तो जरूर कामयाबी हासिल होगी । 

Wednesday, July 12, 2017

मजलूम की बद्दुआ फिर खुदा का कहर

July 12, 2017 0 Comments

दोस्तो गरीबी एक ऐसी चीज़ है जिसे सिर्फ गरीब ही बता सकता है के गरीबी क्या चीज़ है । गरीब की फरियाद को कोई नही सुनता । हर काम मे गरीब को पीछे खड़ा किया जाता है उसे काम कराया जाता है और जब  अपनी मेहनत मांगता है तो हम उस के काम मे नकल निकलने लगते लगते है । दोस्तो बक्त हर इंसान का एक जैसा नही होता है । बदलता रहता है  ....
और किसी ने क्या खूब कहा है के

    ,,   मत सता किसी गरीब को , ये गरीब रो देगा ।     और गरीब की सुन ली उस खुदा के तो तू अपनी हस्ती खो देगा । ,,

दोस्तो आज की कहानी एक ऐसे ही गरीब की है जिसे पड़ कर आप सायद नम हो जाएंगे ।
दोस्तो बात बहुत पुरानी है लेकिन सच है । के मुल्तान के अंदर एक बहुत ही रहीस परिबार रहता था । जिनके पास एक गरीब परिबार नौकर के रूप में काम करता था । पर  दिल का बहुत अच्छा सीधा साधा था । एक दिन उस गरीब के घर मे कोई फंग्सन था जिस के कारण बो अपने मालिक के घर काम करने नही जा सके थे  । उन्होंने कुछ छोटा मोटा खाना बनाया और मिठाई में बेसन के लड्डू बनाये थे । जब सब लोग खाना खा  चुके और दूसरे दिन जब बो अपने मालिक के घर गए । उन का मालिक जिस का नाम था कासिम बो बड़ा ही दिलदार इंसान था लोगो पर दया करने बाला था । जब बो बहाँ गए तो उन के मालिक ने उन से कुछ नही कहा और खुसी से उन का तोफा ( बेसन के लड्डू ) को कुबूल कर लिया । लेकिन मालकिन उन के एक दिन के ना आने पर बड़ी ही गुस्से में थी और बो जो लड्डू थे अपने पति के हाथ से छीन कर फेंक दिए । और उन्हें मार पीट कर काम से निकाल दिया और दूसरे नौकर को लगा लिया । इस से पहले की कासिम कुछ कहता उस ने खुद को मारने की धमकी दी । जिस से बो कुछ नही बोल सका । बो बेचारे अपने घर आ गए । लेकिन सायद खुदा को ये बात पसन्द नही आई और अब उस औरत पर  खुदा का कहर टूटा । जब दुपहर हुई और बो जब खाने के लिए बैठे । उन के सामने खाना लाया गया । कासिम ने खाना सिरु कर दिया लेकिन जब उस औरत ने खाने को हाथ लगाया ऐसे ही उस खाने में कीड़े पड़ गए , खाने से बहुत बुरी बदबू आने लगी  


 । बो खाने की जिस चीज़ को भी हाथ लगाती उस मे कीड़े पड़ जाते और खतरना बदबू आने लगती ।  उन की हालत खराब होने लगी । क्यो की उस ने सारे खाने को हाथ लगा दिया था तो पूरा खाना बदबू मारने लगा।  अब जो भी खाना उस के सामने लाया जाता और बो उस के जैसे ही हाथ लगाती तो उस मे से बदबू मारने लगती और कीड़े पड़ जाते । घर का पूरा खाने का सामान था बो सब इसी तरह हाथ लगाने से सड़ गया था । उस के चक्कर मे बेचारा कासिम और भूका मर रहा था । क्यो की बो उसे अब ऐसे हाल में अकेला नही छोड़ सकता था । बो उसे लेकर बहाँ से चल दिया और अपने एक बहुत ही जिगरी दोस्त के यहां चला गया जो कि बहुत रहीस था । बहाँ जाकर इस ने भूक का इज़हार किया तो इस दोस्त ने बहुत तरह का खाना और मेबे उन के खाने के लिए पेस कराये । कासिम ने सोचा के यदि इन के सामने इस ने हाथ लगाया और ये खाना खराब हो गया तो मेरी इज़्ज़त खराब हो जाएगी । और मेरा दोस्त मुझे यहाँ से भगा सकता है । तो कासिम बोला के दोस्त ये मेरी बेगम बड़ी सरमीली है ये किसी के सामने खाना नही खाती । अगर आप बुरा ना मानो तो कुछ देर के लिए हमे अकेला छोड़ दो और हमे जब किसी चीज़ की जरूरत पड़ेगी तो मैं आबाज दे लूंगा । दोस्त को इस बात से कोई एतराज नही हुआ और उसने अपने सारे नौकरो को बहार आने का हुक्म दिया और और उन्हें अकेला छोड़ दिया । कासिम ने पहले उस से खाने के लिए कहा और जब उस की बीबी ने खाने को जैसे ही हाथ लगाया तो उस खाने में से बदबू आने और कीड़े पड़ने सिरु हो गये । बो जिस प्लेट को भी हाथ लगाती उस प्लेट में से बदबू आने लगती और कीड़े पड़ जाते । ऐसे ही ऐसे कर के सारी प्लेटो में कीड़े पड़ जाते । कासिम ने जल्दी से सारा खाना इखट्टा किया और उसे पीछे की खिड़की से बहार फेक दिया आज फिर उन्होंने पानी से काम चलाया । कासिम अपनी बेगम से इतनी मुहब्बत करता था के उस से पहले खाना नही खाता था । तो बेचारा बो भी भूक से परेशान । उन्होंने नौकरो को आबाज लगाई और सारी प्लेट हटाने का हुक्म दिया । नौकरो ने ताज़्ज़ुब उनकी तरफ देखा कि इतना सारा खाना और ये कैसे खा गए होंगे । कासिम के दोस्त ने जब उन्हें गंदा सा देखा तो उसने उन्हें नहाने का इज़हार किया । तो कासिम की बेगम नहाने के लिए ( गुसल खाना )बाथरूम में नहाने की लिए गई । उससे थोड़ी देर पहले कासिम के दोस्त की बेगम नहा कर निकली थी उस ने अपना नौ लखा हार जो बहुत ही महंगा था बाथरूम में ही भूल गई ।


 कासिम की बेगम जब नहाने के लिए घुसी और कुंदी लगाई तो देखती है के जिस खूटी से बो हार लटका हुआ था उस खूटी ने अचानक ही उस हार को निगल लिया और बो हार वँहा से गायब बेगम ने जब ये सब देखा तो उस के होश उड़ गए । बो बिना नहाये जल्दी से बहार निकली और कासिम को आबाज दी कासिम जल्दी से उस के पास तो उसने सारी दास्तान सुना दी । कासिम अब टेंसन में आ गया के यदि हम इस बात को  और लोगो को बताएंगे तो कोई हम पर बिसबास भी नही करेंगे और हमे चोर समझ कर हमे बदनाम करेंगे जो अलग.....!  जेल में भी डाल सकते है । तो बो वहां से चुपके से भाग लिए और बहुत दूर निकल गए । उधर जब उस रहीस की बीबी को अपना हार याद आया तब बो उसे लेने गई और जब खूटी देखती तो उस पर हार नही था उस की बेगम जल्दी से अपने सोहर ( पति ) को बुलाती है और कहती है के आपका दोस्त मेरा नौ लखा हार लेकर भाग गए  ।
  तो उसने कहा के ये झूट है मेरा दोस्त ऐसा नही कर सकता बहां ही देखो कहि पड़ा होगा ।
बेगम = मेने सब जगह देख लिया है मुझे कहि नही मिला । बो ही लेकर गए है । अगर बो नही लेते तो यहाँ से क्यो चोरी छुपे भागते?
उस रहीस को कुछ समझ मे नही आ रहा था क्यो की उसे अपने दोस्त पर पूरा बिसबास था । लेकिन उस ने सच्चाई का पता करने के लिए अपने कुछ सेनिको को उसे ढूंढ कर लाने के लिए कहा । उधर बो चलते चलते एक नदी के किनारे पहुच गए उन्होंने बहां पानी पिया और बैठ गए लेकिन अब उनकी हालत ये थी के अगर उन्हें एक दिन और खाना नही मिला तो उनकी मौत हो सकती है । अब उस की बेगम को सारी गलती का अहसास हो गया और उसने बो नौकरानी के साथ गलत ब्यभार करने बाली  बात अपने पति बताई और माफी का इज़हार किया ।
कासिम ने अपना मुंह आसमान की तरफ किया और फिर नदी के किनारे से कुछ गीली मट्टी ली और उस के दो चार मोठे मोठे लड्डू बनाये और उन्हें अपने सामने रखा फिर अपनी बेगम से कहा के अपने रब ( ईशबर ) से माफी मानगो और दुआ मानगो । बो दोनो हाथ उठा कर और रो रो कर माफी मांगने लगे । इतना रोये इतना रोये के आसुओ से उनका दमन भीग गया । तो अचानक ही उन्हें बहुत अच्छी खुसबू आने लगी । ऐसी खुसबू उन्होंने अपने जीबन में कभी नही सूंघी । जब उन्होने अपनी नजर सामने की तो देखते है की जो मिट्टी के लड्डू थे बो देसी घी और फुल मेबा मिस्ठान के बन गए थे ।






 उस बेगम ने कहा के आप भी भूखे हो सायद ये दोबारा खराब हो जाये क्या पता ? इससे अच्छा है के पहले आप खा लो उसके बाद मैं कहा लूंगा ...!
तो कासिम ने कहा के ये नेमत हमे खुदा की तरफ से मिली है  अब हमारा खुदा हमसे राजी हो गया है पहले आप ही नोश्त फरमाए (खाये)  । बेगम ने डरते डरते उस के हाथ लगया तो कुछ भी नही हुआ ! उन्होंने जब उसे खाया तो ऐसा खाना उन्होंने पूरी जिंदगी में नही खाया । खाने से जैसे ही फ्री हुए इतने में बो रहीस दोस्त के सैनिको ने उन्हें गिरप्तार कर लिया । कासिम ने बो बचे हुए लड्डू जल्दी से एक कपड़े में डाले और उन सेनिको के साथ चल दिया  । कासिम उस रहीस दोस्त के पास गया तो उस पूरे महल में उन लड्डूओ की खुसबू फेल गई । इस से पहले की कासिम कुछ बोलता उस रहीस ने उस खुसबू के बारे पूछा जो कि बड़ी जोरो से आ रही थी । तो उसने बो पोटली उस के सामने की । रहीस ने जब उस मे से चखा तो बो उस का दबाना हो गया । और बोला के आप मेरे महल की सारी दौलत ले लो लेकिन मुझे ये बता तो की ये चीज़ कहां मिलती है । कासिम ने अपने रहीस दोस्त को सिरु से end  तक का पूरा किस्सा सुनाया । उस की बेगम फिर गुसलखाने (बाथरूम ) में गई और उस खूटी की तरफ देखा तो बह हार उसी जगह लटका हुआ था । उसे अपने गलती का अहसास हो गया । उधर कासिम की बेगम को भी अपनी गलती का अहसास हो गया और अब बो इतनी सरीफ हो गई के जब तक किसी गरीब को खाना नही ख़िलादेती बो खाना नही खाती थी ।
तो दोस्तो आब सायद आप समझ गए होंगे कि चाहे गरीब का कोई साथी नही होता  । लेकिन उस का साथी ईशबर रहता है और जब ईशबर अपनी सजा सुनाता है तो आदमी की रूह कॉफ उठती है । इस लिए दोस्तो अगर आप गरीब से कुछ लेना  चाहते हो तो उससे सिर्फ दुआ लो ... बद्दुआ नही  ! क्यो की मज़लूम की बद्दुआ कभी खाली नही जाती ।

Friday, May 5, 2017

फ्री में अपनी बेबसाइट बनाये और इंटरनेट पर धमाल मचाये साथ ही पैसे कुमाये

May 05, 2017 0 Comments

जी हॉ दोस्तो .... मज़ाक सा लग रहा होगा जब मैने ये बात लिखी तब । लेकिन ये सच है । दोस्तो पहले मैं आपको कुछ उदहारण देता हूं के हम खुद ही अपनी आँखों से देखते है के कोई इंसान जो कि बहुत पड़ा लिखा है और बेरोजगार है और मजबूरन उसे ऐसा काम करना पड़ रहा है जो कि उस के सांन के खिलाफ है लेकिन क्या करे और कुछ चारा नही है । और एक इंसान ऐसा है जो कि सिर्फ 10 बी पास है लेकिन अच्छा खासा पैसा कुमा रहा है । कैसे ...? अरे अपने दिमाक को इस्तमाल कर के यार । दोस्तो ये जरूरी नही के हर धनदे को पैसा लगा कर ही सुरु किया जाए और उस से फिर पैसा कुमाये जाए । दोस्तो आज मैं आपको इस इंटरनेट की दुनिया मे लेकर चलता हूं जहां पर करोड़ो लोग रोजगार प्राप्त कर रहे है । तो हम क्यो नही...???? अरे हम भी कर सकते है । अपने घर पर बैठे बिठाये ।
जी हाँ दोस्तो ..... अजीब सा लगा ना...???? दोस्तो मुझे देखो !! मैं आज इंटरनेट पर से खूब अच्छी इनकम पा रहा हु । बस मेने थोड़ी महनत की ।
महनत भी ऐसी की के पूरे दिन में 30 मिन्ट्स के लिए अपनी बेबसाइट पर कुछ अच्छी सी चीज लिख दी और लोगो ने उसे पड़ा फिर इंटरनेट से पैसा सीधा मेरे अकाउंट में .... क्या आप चाहते है ऐसा ।अब आप सोच रहे होंगे कि चाह तो रहे है लेकिन हमारे पास कम्प्यूटर तो है ही नही ...?

अरे मोबाइल तो है ना ...????

मैं भी तो मोबाइल से ही काम कर रहा हु यार .... तो तैयार हो ना ......अब चलो  तो मैं आपको बताऊंगा के इंटरनेट से कैसे पैसा कुमाये जाता है ।
दोस्तो सब से पहले हमें अपनी बेबसाइट बनानी है । अब आप सोच रहे होंगे कि बेबसाइट बनाने के लिए तो पैसे लंगेगे ।
जी हाँ दोस्तो आप ने बिल्कुल सही सोचा । बाकई पैसा लगता है लेकिन मैं आपको फ्री में बनाना सिखाऊंगा  और जिस पर हम काम कर के बहुत अच्छी खासी इनकम पा सकते है । दोस्तो आप ने blogger का नाम सुना होगा ??? अगर नही तो मैं बताता हूं के ब्लॉगर google का ही एक प्रोजेक्ट है 




जिस पर यदि हम अपनी बेबसाइट बनाते है और हम उस साइट पर अच्छी अच्छी चीज लिखते है तो लोग उस स्टोरी को पड़ेंगे और पढ़ने पर google को फायदा होगा जब उसे फायदा होगा तो हम को बो कमीसन देगा और कमीसन सीधा हमारी बैंक में आ जायेगा । कैसे आएगा बो भी मैं आपको बताऊंगा लेकिन पहले आप  को मैं बेबसाइट बनाना सीखा देता हूं ।

दोस्तो सब से पहले हमें कोई भी ब्राउज़र ओपन करते है और उस मे लिखते है google 



और जब उस मे google खुल जाता है तो तो हम उस मे लिखते है www.blogger.com

फिर उस मे कुछ इस तरह का पेज ओपन होता है 




जो कि मैने इस फोटू में दिया है ।  हम ये जो तीर का नीसान लग रहा है इस पर किलिक करते है किलिक करते ही हमे एक रेड पट्टी में लिखा होगा
Create your blog हमे उस पर किलिक करना है






फिर एक पेज खुलेगा । जिस पर बो हमारी gmail अकउन्ट मांगेगा ।




 हम उस मे अपनी जीमेल डालते है और फिर पासबर्ड डालते है ।
ये लो दोस्तो हम ब्लॉगर के मैन टॉपिक पहुंच गए



 अब हमे अपनी बेबसाइट का टॉपिक चुनना है के हम ये बेबसाइट किस बारे में बना रहे है । हम इस पर किसके बारे में लिखेंगे ।जैसे मेने लिखा के मेरा  प्यारा ब्लॉग ।

ये सिर्फ आप को समझाने के लिए किया आप कोई भी टॉपिक डाल सकते है।

अब दोस्तो हम नीचे आते है और अपनी बेबसाइट का नाम चुनते है के हमे अपनी बेबसाइट का क्या नाम चुनना है । जैसे की मेने आपको समझाने के लिए चुन 



www.merapyarablog. जब हम उस मे कोई नाम डालते है तो ब्लॉगर उस की जांच करता है के ये बेबसाइट किसी और कि तो नही है । यदि हुई तो कुछ इस तरह का नीसान आपके सामने आ जाता है





अगर यदि नही हुई और आप उसे पहली बार बना रहे है तो उस पर सही का नीसान आ जाएगा ।उस के बाद हमे create now पर किलिक करना है और फिर हमें अपनी बेबसाइट को ओपन करना




फिर हमें उस के अंदर कुछ ऐसी बात लिखनी है जिस से हम लोगो ध्यान अपनी ओर आकर्षित  कर सकते हो । और बहुत ही अच्छा हो । दोस्तो अब ये आपके हाथ मे है के आप कितना अच्छा लिखते है और आपका लिखना लोगो को कितना पसन्द आता है । फिर हम जब लिख कर फ्री हो जाये तो taital  डाल देते है के हमे किसके बारे में लिखा है ।
उस के बाद में जब हम लगा के हमारा लिखा हुआ चपट्टर सही है और अब हम इसे लोगो को पड़ा सकते है 





तो फिर आप उस को publish कर दे ताकि बो लोगो के पास पहुच जाए । 



दोस्तो अगर आप चाहते है के मेने जो चीज़ लिखी है उसे लोग और मेरे दोस्त भी पड़े तो आप उस का लिंक कोप्पी कर के facebook या whatsapp पर भी डाल सकते है । जिस से आपकी ट्राफिक भी बढ़ेगी और लोगो को आपकी खासियत के बारे में भी पता लगेगा ।
तो दोस्तो इस तरह हम अपनी बेबसाइट बना सकते है । यदि किसी के समझ मे नही आया हो तो मैं इस अपने यूट्यूब चैनल की लिंक आपके सामने डाल रहा इस लिंक पर किलिक कर के सब देख सकते है ।https://youtu.be/Uu5UgtkHsdU
दोस्तो अब हम इस से किस तरह पैसे कुमाये और पैसे कैसे हमारे अकाउंट में आएंगे ये में आगे लिखूंगा टैब तक के लिए
good bay

मेरा ब्लॉग है या मेरी बेबसाइट है 

Tuesday, May 2, 2017

एक आत्मा की इमोशनल प्रेम कहानी ।Emotional love story of a soul

May 02, 2017 0 Comments
दोस्तो माफ करना अब की बार जरा लेट हो गया स्टोरी लिखने में क्यो की अब मैं अपना चैनल Freedom life  यूटब पर चला रहा हु इस लिए ।
तो जाने दो हम तो हमारे उस टॉपिक पर आते है जिस पर मैं आज आपसे चर्चा करूँगा ।



दोस्तो आज का टॉपिक थोड़ा अजीबो गरीब है पर आप से बिनती है के आप या तो इस से आगे पड़े नही और यदि आप पड़ना चाहते हो तो कृपया इसे फिर पूरा पड़े । या फिर यही तक पड़े क्यो की आगे ऐसी बात आने बाली है जिस से आप डर जाए....
दोस्तो आज का हमारा ब्लॉग है के क्या बाकई भूत जिनं आत्माएं होती है ।
तो दोस्तो अगर इस बात पर सर्वे किया जाए  तो 70% लोग कहेंगे के कोई भूत बूत नही होते । और 30% लोग कहते है के बाकई आत्माएं होती है । दोस्तो अगर मैं आप से इस सबाल को पूछू के बाकई होते है क्या ...????
तो आप अपना जबाब मुझे कमेंट बॉक्स में जरूर  बताइये । दोस्तो हम ने खूब सुना होगा और हमारी दादी या कोई भी किसी बूढ़े  इंसान से आपकी मुलाकात हुई होगी और बो बूढे इंसान ने यही कहा होगा के हाँ उन्होंने भूत को देखा है या फिर कहेगा के उसने फलां आदमी को कुश्ती लड़ते देखा है । या फिर बड़े बुजुर्ग के पास हम बैठ कर इस बात का जिक्र करते है तो बो बहुत सारे किस्से हमे सुना देगा । लेकिन दोस्तो हमे यकीन नही होगा । क्यो की हमरा पाला कभी भूत से पड़ा ही नही  । तो हमे यकीन भी नही ।
चलो दोस्तो आगे अपने पॉइंट पर आते है । जो कि एक सच्ची कहानी है ।
जिसे जब मैं छोटा था और कहानियों में मज़ा लेता  करता था तब मुझे किसी ऐसे ही एक बुजुर्ग ने ये कहानी सुनाई जो उस के पड़ोस में घटित हो गई थी । के एक पिसाज़ मतलब  जिन्नात की लड़की जिसे आप कोई भी रूप दे सकते हो लेकिन बो इंसान नही थी ।  जो कि बड़ी ही खूबसूरत थी ।



 और उस का नाम था एंगल । उस का इंसानो से बहुत लगाब था । हमेसा बो अपना भेष बदल कर इंसानो के बीच मे ही रहना पसन्द  करती थी । लोगो की मदत करने में उसे बड़ा मजा आता था । बो अपना सारा बक्त लोगो की खिदमत करने में ही निकालती थी ।
एक दिन कहि से एक बंजारों का गिरोह एक मैदान में आकर रुका हुआ था । उस गिरोह का जो सरदार था बो एक नजूमी था ।



 नजूमी मतलब बो बक्त की बातों को पहले ही पहचान लेता था । उस को इतनी ताखत थी के बो किसी को भी अपने बस में कर लेता था । चाहे बो कितना ही बड़ा जिन्न हो । बो जो सरदार था बो इतना मतलबी था के बो अपने फायदा के लिए किसी की भी जान को जोखिम में डाल देता था । एक डाकुओ का ग्रुप को उन के बारे में पता लग गया था । तो बो उन पर आक्रमण के इरादे से चल दिया ।  उस तांत्रिक सरदार को किसी तरह पता लग गया के डाकू उन पर हमला करने आ रहे है । तो उसने दिमाक लगाया के अगर मैं इन काबिले बालो के साथ रहूंगा तो मारा जाऊंगा इससे अच्छा तो मैं कहि भाग जाता हूं । और बो ये सोच कर बहाँ से भाग लिया । कुछ देर बाद डाकुओ ने उस काबिले पर हमला कर दिया सारा माल लूट लिया उस लड़ाई में काबिले के काफी लोग भी मारे गए और कुछ घायल हो गए । जब एंगल को जब ये बात मालूम हुई तो बो उन काबिले बालो के पास गई और घायलों की मदत करने लग गई । उस तांत्रिक सरदार को जब पता लगा के डाकू जा चुके है तो बो बहाँ बापस आया ।  उसने जब एंगल को देखा तो बो उसे पहचान गया के ये कोई इंसान नही है और उसने उस पर जादू करना सिरु कर दिया और उसने एंगल को अपने बस में कर के कैद कर लिया । बो अब उसे अपने गिरोह से कोई मतलब नही अब तो बो उसे लेकर चल दिया । और उसे एक जंगल मे जाकर बांध दिया । और उस की सक्तियो को नष्ट करने लग गया । वहाँ जंगल मे एक लकड़हारा लकड़ी काटने आता था । उसने जब एंगल को एक पेड़ से बंधा हुआ पाया । उसने कुलहाड़ी से एंगल की बंधी हुई रस्सी को काट दिया । उसे तांत्रिक ने देख लिया तो तांत्रिक ने उस पर तलबार से हमला किया इस से लकड़हारा घायल हो गया लेकिन आपना बचाब करते हुए बो एंगल को लेकर भाग गया और तांत्रिक उन्हें ढूंढता रह गया । एंगल को अब लकडी काटने बाला पसन्द आ गया । क्यो की बो सुंदर था । लेकिन लकड़ी काटने बाला डरपोक था



। और उसे सबसे ज्यादा डर तो भूत परेजो से लगता था । और उसे पता नही था के एंगल इंसान नही है । बो एंगल को इंसान ही समझता था । अब जब भी बो लकड़ी काटने जाता तो एंगल भी आ जाती और उस की मदत करती थी । इस से उन दोनों के अंदर काफी प्यार बाद गया था दोनो एक दूसरे को बहुत प्यार करने लगे एक दूसरे के लिए जान देने लगे । बक्त के हिसाब से ही उन्होंने सादी कर ली । इन दोनों की सादी को पांच साल हो गए अब उनके दो बच्चे भी थे । एक दिन बो अपने बच्चो के साथ रात को सो रहे थे के की रात के 12 बज गए तो लकड़हारे ने कहा के चिराग को भुझा दो । एंगल ने कहा के आप सो जाओ मैं भुझा  दूंगी थोड़ी देर बाद एंगल ने लकड़हारे की तरफ देखा और सोचा के सायद ये सो गया और अपने हाथ को जादू से काफी लंबा किया उस चिराग को भुझा दिया । लकड़हारा उस बक्त तक सोया नही था और उसने उस को ऐसा करते देख लिया । तो उसने तो अब चिल्लाना सिरु किया  । एंगल ने काफी समझाया लेकिन उस के कुछ समझ मे नही आया । और बो अब उस से डरने लगा बो जैसे ही पास आती तो बो डर के पीछे हो जाता । इस चिल्लाने से पूरे पड़ोसी एक्खट्टे हो गए और उस लकड़हारे ने उन पड़ोसियों को ये सारी बात बता दी ।
अब कोई पड़ोसी उसे चुडेल बताता , कोई भूतनी बताता , कोई आत्मा बताता और ऐसा कह कर उस पर पत्थर मारने लगे । एंगल ने किसी से कुछ ना कहा और सिर्फ अपने लकड़हारे से उसने एक बात कही के अब सायद हम साथ नही रह सकते लेकिन मैं आपको हमेसा प्यार करूँगी और मेरे बच्चो का ख्याल रखना । ये कह कर बो बहाँ से चली गई ।
लकड़हारा तो इतना डरा हुआ था के बो अब उन बच्चो से डर रहा था जो कि उसके थे । उन्हें मरता पीटता और उनसे बोलता के हाथ लंबा कर के दिखा .....
उन्हें बार बार मारता पीटता ...।
जब लोगो ने उसे समझाया के ये तो बच्चे है और कैसे भी हो तेरे है तो क्यो इनको मार पीट रहा है । आखिर इनका क्या कसूर है ।
तो बात लकड़हारे के समझ मे आ गई ।
कुछ ही दिन बीते थे के लकड़हारे को एंगल की कमी महसूस होने लगी और उसे खुद की गलती मालूम होने लगी लेकिन अब बो क्या करे क्यो की एंगल ने उस इंसान हो हमेसा के लिए छोड़ दिया था ।
तो दोस्तो सायद ये बात आपके समझ मे नही आई होगी लेकिन जब मैने भी ये कहानी सुनी तो दिल मे बहुत से सबाल आये ।
सायद आपके भी आ रहे होंगे । लेकिन जाने दो आगे की सोचो ।

Tuesday, April 25, 2017

गरीब के दिल की ह्मदर्दी । कहानी एक सफर की

April 25, 2017 0 Comments
दोस्तो ये दुनिया बहुत बड़ी है । और इस दुनिया मे सब तरहा के लोग है ।



जैसे :- अमीर गरीब , काला गोरा , लाम्बा छोटा , मोटा पतला हर तरह के लोग रहते है और दिल सब के पास रहता है लेकिन ना जाने क्यों ये कमबख्त दिल है ना किसी किसी का सिर्फ धडकने का काम करता है और किसी किसी का दिल है जो दो काम करता है ।
एक तो खुद के लिए धड़कता और एक दुसरो के लिए ।
कैसे....????
चलो मैं बताता हूं  कैसे दुसरो के लिए धड़कता है । गर्मियों के दिन थे । स्कूल की छुट्टियां सिरु हो गई तो मैने और मेरे कुछ दोस्तो ने कहि घूमने का पिलान बनाया ।


 मेने अखबार में देखा के एक बस घुमाने के लिए जा रही है जो कि 3 हजार रुपये में एक सप्तहा घुमाएगी । तो मैने मेरे तीन दोस्तो को ये बात बताई और हम तैयार हो गए । हम चारो ने अपने बैग तैयार कर के जयपुर हो लिए राबाना हो लिए  और उस बस बाले से जा मिले जो कि सात दिन के टूर पर जा रही था । हम  चारों ने तीन तीन हजार रुपये जमा करा दिए । हमारे आने से बस की सारी सीटे फुल हो गई और बस राबाना हो गई । मेरे तीन दोस्त एक सीट पर थे और में एक सीट पर बैठा था जिस पर एक अंकल और एक आंटी और एक उनका छोटा सा बेबी था । हम चारो बड़ी मस्ती करते हुए जा रहे थे । के उस पास में बैठी एन्टी का बेबी बड़ी जोर जोर से रो रहा था । किसी ने रोने की बजह पूछी तो आंटी बोली के मुन्ने को भूक लगी है और हमारे पास ढूध खत्म हो गया है अगर ड्राइबर सहाब कहि रोक दे तो हम दूध ले ले...!
तो ड्राइबर ने गाड़ी एक रिसोर्ट पर रोकी जब अंकल उस दूध लेने गया और पूछा के भाईशाब आपके पास दूध है ।
दुकान बाले ने पूछा के किस लिए चाहिए..?
हमारा बच्चा भूका है और उसे दूध पिलाना है तो उस दुकान बाले ने मौका देखकर चौका मार दिया । यानी उसने आधा किलो दूध उसे सौ रुपये का दिया । क्यो की उसे पता था के ये दूध जरूर लेगा और आस पास कोई दुकान नही है । फिर अंकल उस दूध को लाया और उस बच्चे को दूध पिलाया । हम अपनी मस्ती में मस्त चारो दोस्त मौज़ मस्ती करते जा रहे थे के साम हो गई । ड्राइबर ने गाड़ी एक तरफ एक ढाबे पर रोक दी ताकि पैसिंजर कुछ कहा पी ले ...!
सब बस से नीचे आ गए और और सब ने कुछ ना कुछ  कहा पी लिया । अंकल ने कहा के कहि से इस बच्चे के लिए  भी दूध ले लेते है क्या पता आगे मिले जाने नही तो ढाबे के पास में एक छोटी सी झोपड़ी में एक बाबा चाय बनाता था । बो दोनों उस के पास  गए और एन्टी बोली के बाबा मेरा बच्चा भूका है आप के पास दूध है क्या ...?
तो बाबा ने हसकर कहा के हाँ बेटा है और उस बाबा ने उस बच्चे के लिए एक प्याली में दूध निकाला उसे गर्म किया फिर उस मे चीनी मिलाई और फिर उसे ठंडा कर के आंटी को दिया ।
आंटी बोली के बाबा कितने रुपये हुए ..?
तो बाबा बोला के बेटा इस बच्चे को दूध दिया है मेने आपको नही दिया ।
इस बच्चे पर से क्या पैसे लेने । बाबा ने एक बोतल में और दूध भर के उस आंटी को दिया के ले बेटा ये आगे बच्चे को भूक लगेगी तो तुम्हे रास्ते मे काम आएगा ।
मेने उस रिसोर्ट बाले को भी देखा और उस गरीब को भी देखा ।
मेरे दिल ने कुछ कहा भी पर मैं उसे ना सुनते हुए फिर मस्ती में लग गया ।
बस आगे के लिए राबाना हो गई कुछ ही घण्टो में रात हो गई और जब सुबह हुई तो एक अजीब सा सोर हो रहा था जब मैने उस पर गौर किया तो पता लगा के हमारी सरकार ने 500 और 1000 के नोट बंद कर दिए । पूरी बस में इस बात पर जोर जोर से बाते चल रही थी हमे तो कोई टेंसन नही तो क्यो की हमारे पास तो कुछ सिर्फ सौ सौ के नोट थे और बाकी ATM में थे । लेकिन हमारे सामने बाले एक अंकल को बहुत घबराहट हो रही थी क्यो की उसके पास सिर्फ 1000 और 500 के नोट थे और बो अपना ATM भी नही लाया था । उसके साथ उसकी बीबी और उसके दो बच्चे भी थे । जब बो किसी से कुछ सामान लेता तो हजार और पाँच सौ के नोट को देखकर उसे कोई कुछ ना देता । ऐसे ही ऐसे उस अंकल को दुपहर हो गई । बस एक पार्क के पास रुकी ताकि यात्री कुछ आराम कर ले और कुछ खा पी ले । बो अंकल एक बड़ी और VIP दुकान पर ये सोच कर गया के सायद इस पर नॉट चालू हो या फिर उसे थोड़ा रहम आ जाये जिससे कुछ हमे और बच्चो को खाने पीने का सामान मिल जाये । बच्चे भी उस के साथ थे । उसने बहुत सा सामान लिया और बिस्कुट और कुर कुरे बच्चो को खाने लिए दे दिए । बच्चे भूखे थे इस लिए उन्होंने उन्हें फाड़ कर खाने में देरी ना करी ।
लेकिन जब अंकल ने उस दुकान बाले को 1 हजार का नोट दिया तो उसने उसे लेने से मना कर दिया ।
अंकल बोला के मेरे पास और कुछ नही है । तो उस ने कहा के में कुछ नही जानता मुझे पैसे चाहिए ! कहि से भी लाकर दो और कैसे भी लाकर दो  ........
अंकल टेंसन में आ  गया के अब क्या करे कुछ  सामान तो बापस कर दिया लेकिन जो बच्चो ने खा लिया उस का क्या ...????
दुकान के सामने एक जुता पोलिस करने बाला बैठा था । उस अंकल ने दिमाक लगाया के ये तो गरीब है इस के पास कौनसा TV  होगा जिससे इस को नोट बंदी के बारे में पता होगा  क्यो ना मैं ये हजार रुपये इसे चेका दु ....!!!!!
अंकल उस के पास गया और अपने जूता पालिस कराया । सब काम होने के बाद उस अंकल ने बो हजार का नोट उस जूता पोलिस करने बाले को दिया तो उस ने हाथ जोड़कर बोला के भाईशाब ये हजार का नोट अब दुकानों पर नही चल रहा है । कृपया खुल्ला दे दे । अंकल ने कहा के मेरे पास खुल्ला नही है और ये नोट बंद से हम तो रास्ते मे ही लटक गई है ना कुछ खाने को मिल रहा है ना कुछ पीने को । कोई इन्हें लेने को तैयार नही मेरे बच्चे भूखे मर रहे है ......
अंकल की आखों में आँसू आ गए ।
तो उस जुता पोलिस करने बाले ने अपनी जेब से पूरी दिन भर की कमाई निकाली जो करीब 750 थी और उस अंकल के हाथ मे थमा दी और बोला के भाईशाब जब तक आपका काम चले इनसे चला लो । उस अंकल ने उस जुता पोलिस करने बाले की तरफ देखा तो बो मुस्कुरा रहा था अंकल ने बो पैसे लिए और उस से उस का अकाउंट नंबर मांगा लेकिन बो तो गरीब था बो क्या जाने बैंको में जमा कराना ! बो तो जितना कुमाता उसमे से कुछ का खाने पीने का सामान ले आता और कुछ जोड़ लेता था । तो उस अंकल ने कहा के में कुछ दिन बाद आपके पैसे लौटाने यहाँ आ जाऊंगा । अंकल का फिर आगे घूमने का मूड बदल गया और बो उन पैसे से घर के लिए राबाना हो गया । कोई बात नही ......
फिर बस आगे के लिए राबाना हुई । कुछ घण्टे चलने के बाद हम एक शहर में पहुच गए बस बहाँ रुक गई । हम ने सोचा के कुछ खाने के लिए फल ले लेते है । तो हम ने देखा के एक फल की बड़ी ही खूबसूरत और VIP दुकान है और एक तरफ एक  बूड़ी औरत एक जगह थोड़े से केला बेच रही है 


अचानक उस बड़ी दुकान के सामने एक गाय कुछ खाने के लिए आती है तो उस दुकान बाले ने उस गाय को डंडा बता कर भगा दिया । और जब बो गाय उस बुढ़िया की धकेल के पास कुछ खाने के लिए आई तो उस बुढ़िया ने 2 - 3 केला लिया और उस गाय को खिला  दिया । गाय बेचारी खा कर आगे चल दी । मैं उस बुढ़िया के पास गया और बोला के अम्मा केला क्या भाब दिए है तो उसने बताए के 30 रुपये किलो ।
मेने बोला के आप महंगे दे रही हो सही बताओ बर्ना हम नही लेंगे । उस अम्मा ने कहा के बेटा कुछ ज्यादा नही है 2 चार रुपये कम जाए इस लिए बैठी हु । हम उस बुढ़िया को छोड़ कर आगे उस VIP दुकान की ओर चल दिये और बो बुढ़िया हम से बोलती रही के बेटा कितना लेना है । रुको तो सही.....
और हम अपनी ठसक दिखाते हुए आगे बढ़ गए जब उस दुकान पर हमने पूछा के केले कितने के 1 किलो दिए है । तो उस दुकान दर ने बोला के 50 रुपये किलो ....
हम ने बोला के कुछ कम कर लो ..???
तो उस दुकानदार ने गुस्से से हमारी तरफ देखा और बोला के कहाँ से आये हो..????
पहली बार केले खरीद रहे हो ...?
या पहली बार केले खा रहे हो ?
हम चारो को अहसास हो गया के ऊँची दुकान और महंगे दाम ।
हम अपना सा मुह लेकर बहाँ से राबाना हो लिए और उस बुढ़िया के पास आकर उस से 2 किलो केले ले लिए । और उस बुढ़िया को हमने 50 की जगह 60 रुपये दिए ।
मुझे इन तीनो बारदातो से ये अहसास हो गया के गरीब के दिल के अंदर कितनी ह्मदर्दी होती है ।
कहाँ बो रिसोर्ट बाला जो दिन भर में 5000 रुपये कुमाता है फिर भी उसने उस बच्चे पर रहम नही किया और कहाँ बो गरीब आदमी जो दिन भर में 100 या 200 रुपये कुमाता है लेकिन उस के दिल मे उस बच्चे के प्रति दया और प्यार प्रेम है ।
तो दोस्तो इस कहानी से चाहे आप की कुछ समझ मे आये या नही आये लेकिन मेरी समझ मे तो ये आया है के हम अपनी ठसक दिखाते हुए किसी गरीब से सामान लेने में अपनी बेज्जती समझते । या अगर लेते भी है तो उस से बहुत मोल भाब करते है और किसी ऊँची दुकान पर जाते है तो तो बो जितना कहता है उतना उसे निकाल कर फटाफट दे देते है ।
दोस्तो आप से ये गुजारिस है के इस स्टोरी को आगे सैंड कर दो ताकि हम किसी गरीब से सामान लेने में कोई मोल भाब ना करे ।