most 1

Tuesday, November 22, 2016

आज इंसान क्यों परेसान है ? चलो ये भी जान लेते है

   

    इंसान अपनी खुसी तलास करने के लिए
                आपना  घर बदलता है !
                    रिश्ते बादलता है !
                    लिबास बादलता है !
                    दोश्त बादलता  है 
                  फिर भी परेसान रहता है          
       क्यू,,,                              
     क्यों की बह अपने आप को नही बदलता  | हो सकता है के अपने आप के बदलने से जिंदगी बदल जाए
      किसी सायर ने क्या खूब कहा है के.....
       ऊम्र भर यही भूल करता रहा ग़ालिब  !!               धूल चहरे पर थी और आइना साफ करता रहा !


 तो चंद बाते मुझे मेरी जिंदगी ने भी याद दिला दी  के

  एय  खुशियां इतनी  जिद ना क़र मेरी ज़िन्दगी में आने के लिए !२!
बोल किस्मत ने कितनी दी है रिस्बत तुझे मुझ को रुलाने के  लिए !


   बक्त खराब है या ना जाने किस्मत खराब है  क्यों की मेरी जिंदगी में मेरे चारो तरफ गम बे हिसाब है


      जिंदगी जिए जा रहा हु इसी तलास में। .. !२!
 के क्या पता खुसी मिल जाये आने बाले और कुछ लम्हात में !

No comments:

Post a Comment

life की मुहब्बत भरी बाते