Skip to main content

एय इंसान तू इतना खुदगर्ज़ क्यों हो गया

   जियो और जीने दो


एय  ज़िन्दगी तुझसे हर कदम पर समझौता क्यों किया जाया !!
शौक ज़ीने का है मगर। इतना भी नही के मर मर के जिया जाये !
हर  शक्श तुझे  चाह्ता तो है।  पर किसी को तुझ से मुहब्बत नही !!
काट जाएगा ये सफर दुःख या सुख में एक दिन इस बात में कोई शक नही !!

जिंदगी क्या होती है ? क्या एक जीने का नाम जिंदगी होता है  चाहे कैसे भी हाल में रहो ?
अरे जीते तो जानबर भी है तो क्या जानबरों की भी ज़िन्दगी है ?
ज़ी हां..... !
ज़िन्दगी उस हर एक उस प्राणी की है जिस के अंदर प्राण है  हर उस प्राणी को जीने का हक़ है जिसको ईशबर ने प्राण दिए है ! और ईशबर ने इस धरती पर एक साबसे बहतरीन प्राणी बानाया जिसे मानब कहते है और बो मानब हम है ! मानब को ईशबर ने एक खूबसूरत ढाचे में  ढालकर  इस दुनिया में भेजा है ! और मानब के अंदर हर बो चीज़ डाली है. जिस   की  मानब  को आबश्यकता थी !  
 और मानब  को   ईशबर ने इतनी ताकत दी है के बो हर  जानबर  को अपना गुलाम बना सकता है   ! इंसान को दिमाक दिया है जिस  से बो कुछ भी  कर सकता है ! लेकिन अब इस  युग में देखे तो इंसान एक हेबान की  तरहा बदतर होता जा रहा है ! अमीरो को और आमीर. होने की होड़ लगी  और गरीब सोचता है के बस दो बक्त का खान  कैसे  भी नसीब हो जाये !  और अमीरो को आगे निकलने की होड़ लागि है  इस दुनिया के अंदर ऐसे बहुत से लोग है जिन के पास इतनी सारी दोलात  है के अगर कुछ भी काम ना करे और खूब ऐश आराम  करे पूरी ज़िन्दगी पैसा खूब लुटाये फिर भी बह अपना और. अपने  बच्चो का जीबन बड़ी अच्छी तरह गुजारा कर सकते है !
लेकिन नही। .....
बो  गारीब की इस दुर्दसा को नही देखते की रातो  में सोने के लिए  घर नही है ! सड़को पर अपना गुजारा  कर रहे है 
बरसात में
अपना सर छुपाने को जगह नही !  अगर इस दुनिया. के आमीर लोग ये सोच ले की हम  भी उतना ही जियेंगे जितना की एक गरीब इंसान जीता है या फिर ज्यादा से  ज्यादा 60-70 साल ज्यादा जियेंगे ! लेकिन एक दिन दो तो मरना ही पड़ेगा.  ! और जो ये धन सम्पति है ये उनके. जीबन काल से भी कई ज्यादा है बल्कि उनके बाच्चे भी खूब  रहीसी के साथ अपना जीबन बिता सकते है इतनी  धन  माया  है हमारे पास  ये सोच ले की हमारे जीबन से भी ज्यादा हमारे पास धन   है तो क्यों ना. हम थोड़ा गरीबो में  बाँट दे !  जो  बेचारे  रातो  को खा लिया. तो दिन का पता नही और. दिन को खा लिया तो रात को पता नही   मिलेगा के नही ? 
कोई बात नही मत दो ! अपना धन अपने पास राखो। ....
लेकिन कहते है  ना " जिओ और जीने दो " इतना तो करो

गरीबो से उनका रोजगार  तो मत   छीनो ! जैसे की अब इंसानो को हटा  कर  अब मसीन काम कर  रही है ! जहां 100 लोगो को रोजगार मिलता था  बहा अब एक  इंसान ही काम   कर रहा है ! मजदूरो की मजदूरी मसीन ने  छीन ली है ! जैसे तैसे कर के सरकार गरीबो तक कोई राहत साम्रगी पहुचाने की कोसिस करती है तो उन्हें भी गरीबो तक नही  पहुचने दिया जाता है !  उसे भी बेच कर और  अमीर  बनना चाहते  है  उन्हें भूका रहने पर मज़बूर करते है. ! लेकिन ये सायद जानते नही के इस दुनिया को भी कोई चला  रहा है। ....
किसी ने क्या खूब  कहा है 

मत सता किसी गरीब को , ये गरीब रो देगा !!
अगर जो ये गरीब की सुन ली खुदा ने ,
तो तू अपनी हस्ती खो देगा !


  मगर ऐसा भी नही है के  सारे ही आमीर लोग ऐसे हो  कुछ ऐसे भी है जो इस दुनिया के अंदर गरीबो की खूब सेबा करते है !
 
भाइयो अगर हम गरीबो की   मादत करेगे तो बो बेचारे हमें दुआए  और उन दुआओ की जरूरत पड़ेगी जब हम ईशबर के सामने जाएंगे  उनकी दुआए हमारी ढाल बनेंगी ! इस लिए  सभी  प्राणियों. पर दया करते रहो ! ये दुनिया ये हर इंसान को एक दिन रुक्सत होना है चाहे अमीर हो या गरीब । तो क्यों ना यदि हम से किसी की थोड़ी सी मदत हो सके तो करो । जिससे उन का जीबन भी एक खुसी के साथ बीत सके ।
pyarablog.blogspot.in
Post a Comment

Popular posts from this blog

एक गरीब की दर्दनाक प्रेम कहानी ! A dangerous love story

दोस्तो प्यार कुछ चीज़ ही ऐसी बनाई है खुदा ने के जिस को एक बार हो जाता है ना तो उसे अपने महबूब की हर अदा पसंद आती है । 

महबूब की चाल , महबूब की आबाज,
महबूब की आँखे....
दोस्तो उस की तारीफ तारीफ किये जाता है लेकिन बो.....  जो बाकई अपने महबूब से प्यार करता हो । तो उसे अदा पंसद आती है ।
बर्ना आपको तो खूब पता है के आज के नौ जबानों को क्या पसंद आती है ।
चलो जाने दो हम तो हमारी कहानी पर आते है ।
दोस्तो आज मैं एक ऐसी ही कहानी लाया हूं जिसे सच मे पड़ कर आप बर्दास्त नही कर पाएंगे ।
तो चलो अपनी कहानी पर आते है ।

एक शहर में एक बहुत बड़ा  business man  रहता था जो कि साथ मे नामी गुंडो से मिला जुला था । यानी उस की गिनती दबंगो में होती थी । सब उस से डरते थे । उस की एक लड़की जिस का नाम था रीनू । 





रीनू बहुत ही बदमास और  नटखट किस्म की लड़की थी । जो कि हमेसा किसी को ना किसी को छोटी छोटी बात  पर सजा देती रहती थी । रीनू किसी पर भी दया नही करती थी । क्यो की उसे अपने पापा की इस ताकत पर घमण्ड था । बो इंसान को इंसान नही समझते थे । सब से दादागिरी से बात करना । बही दूसरी तरफ एक लड़का था जिस का नाम था सूरज


 सूरज था तो एक…

मुहब्बत की एक अजीबो गरीब प्रेम कहानी ।

दोस्तो आज के इस युग मे आज से क्या बल्कि बहुत पहले से ही जब से ईशबर ने इंसान के सीने में दिल दिया है तब से और आज तक सायद ही ऐसा कोई इंसान हो जिस ने कभी ना कभी किसी से प्यार ना किया हो ....!चाहे बो कैसे भी और किसी भी रूप में हो ।
दोस्तो हर इंसान चाहता है के उस का  पार्टनर खूबसूरत और सुंदर होना चाहिए ।
कोई भी काला या बदसूरत पासन्द नही करता । पर आपको शायद ये पता नही के खूबसूरती तो चंद दिनों की होती है असल तो मुहब्बत कायम रहती है । पार्टनर चाहे कैसा भी हो लेकिन अगर उस के अंदर आपके लिए मुहब्बत है तो आपके पास दुनिया की सारी खुशियां है और मुहब्बत नही है तो उस के पास चाहे दुनिया की सारी दौलत हो लेकिन उस की ज़िंदगी  उसे अच्छी नही लगती ।
दोस्तो आज मैं आपके सामने एक ऐसी ही प्रेम कहानी लेकर आया हु जिसे पड़ कर आप सोचने पर मजबूर हो जाएंगे ।
एक सहर में एक ब्यापारी का लड़का रहता था । जो कि बहुत ही नटखट था । बो बहुत ही सुंदर और चालाक था ।


 हमेसा मौज़ मस्ती । दिन भर दोस्तो के साथ रहना , खाना पीना , आशिकी और दिल लगी करना सब एक खेल सा था उस के लिए  लकडियाँ पटाना । उन से पैसे ऐठना सब उस के लिए आसान था । बो…

गरीब के दिल की ह्मदर्दी । कहानी एक सफर की

दोस्तो ये दुनिया बहुत बड़ी है । और इस दुनिया मे सब तरहा के लोग है ।



जैसे :- अमीर गरीब , काला गोरा , लाम्बा छोटा , मोटा पतला हर तरह के लोग रहते है और दिल सब के पास रहता है लेकिन ना जाने क्यों ये कमबख्त दिल है ना किसी किसी का सिर्फ धडकने का काम करता है और किसी किसी का दिल है जो दो काम करता है ।
एक तो खुद के लिए धड़कता और एक दुसरो के लिए ।
कैसे....????
चलो मैं बताता हूं  कैसे दुसरो के लिए धड़कता है । गर्मियों के दिन थे । स्कूल की छुट्टियां सिरु हो गई तो मैने और मेरे कुछ दोस्तो ने कहि घूमने का पिलान बनाया ।

 मेने अखबार में देखा के एक बस घुमाने के लिए जा रही है जो कि 3 हजार रुपये में एक सप्तहा घुमाएगी । तो मैने मेरे तीन दोस्तो को ये बात बताई और हम तैयार हो गए । हम चारो ने अपने बैग तैयार कर के जयपुर हो लिए राबाना हो लिए  और उस बस बाले से जा मिले जो कि सात दिन के टूर पर जा रही था । हम  चारों ने तीन तीन हजार रुपये जमा करा दिए । हमारे आने से बस की सारी सीटे फुल हो गई और बस राबाना हो गई । मेरे तीन दोस्त एक सीट पर थे और में एक सीट पर बैठा था जिस पर एक अंकल और एक आंटी और एक उनका छोटा सा बेबी था ।…