most 1

Tuesday, November 22, 2016

किस्मत ने ओढ़ ली हो बेबफाई की चादर

- : आहा जिंदगी :-




या रब ना ले इतना सख्त इम्तहान मेरा , मै तो अभी नादान हु !!
जिस उम्र में खुलकर  बशर की जाती है जिंदगी , मै उस उम्र में परेसान हु !

इम्तहान ले रहा है मेरा , या है किसी गुनाह की साजा ?
या रब जो भी हो , अब तो दे दो मेरी जिंदगी के चन्द
लम्हो में खुसयो की फ़िज़ा !

खुशियां जैसे छिन सी गई मुझसे , मै जैसे बीरान हु !!
या रब अब  रहम कर  मुझपर क्यों की मै भी एक इंसान हु !

छा गया है मेरी जिंदगी में अब हर जगह आंधेरा !!
या रब दुआ मांगता हु तुझसे , मेरी ज़िन्दगी में लादे
फिर बो सबेरा !

जिंदगी जिए जा रहा हु इसी हालात में !!
क्या पता खुसी मिल जाये बाकि  कुछ लम्हात में !

No comments:

Post a Comment

life की मुहब्बत भरी बाते