most 1

Tuesday, November 22, 2016

मेरी ज़िन्दगी

             मेरी ज़िन्दगी

मै निकल आया अपनी दुनिया से बहुत दूर यारो  !!
मगर बहि है यहाँ भी रंग जामने का  !
मुझे भी इस रंग में रंगना पड़ा है  यहां पर !!
क्यों की नही है कोई निशा अपनी दुनिया में बापस जाने का  !
hello friend
 ! ऐसा मालूम होता है के ये ज़िन्दगी मेरे  जैसे कमजोर दिल बालो के लिए  नही है ये ज़िन्दगी सिर्फ  उन के लिए है जो  दूसरों के मुह से निबाला छीनना जानते हो ! बचपन से ही मुझे दुसरो के लिए हमदर्दी जताने का बड़ा  शौक रहा है और दूसरों को न्याय दिलाने के लिए मेने कई बार अपने आप को जोखिम में दाल लिया ! लेकिन मेरी किस्मत ऐसी है के जिस इंसान के लिए मैने सब से ज्यादा हमदर्दी दिखाई उसी ने मुझे बहुत बड़ा धोका दिया है और मुझे नुक्सान पहुचाया ! मैने अब तक मेरी ज़िन्दगी में बहुत दोश्त बानाये और मेने सभी के साथ बहुत बफा की  यहां तक की मेने उनकी खुसी के लिए अपनी जिंदगी को भी दाब पर लगा दिया और मेरे दोश्तो ने सिर्फ आपने सुआर्थ के लिए मुझ से दोश्ती की ! मुझे हर दोश्त ने दोखा दिया ! लोग दोस्ती की बाड़ी बाड़ी मिसाल देते है पर ना जाने क्यों मुझे ऐसा लाग्ने लगा के अच्छी दोस्ती सिर्फ  अब किताबो में रह गाई है अब अच्छे दोस्त कहा है

 ए खुदा हर रिश्ते को तू बानाता है !
लेकिन दोस्त इंसान खुद बानाता है !
मगर अब दोस्त भी रह गया है नाम का अब !!
क्यों की ये दोस्त अब दुश्मनो से भी ज्यादा सताता है !

मेने  हमेसा ऊपर बाले को माना है मैने कभी किसी गरीब को नही सताया और  ना ही किसी जीब  को यहां तक की मेने जामीन पर रेंगने बाले छोटे छोटे कीड़े माकोड़े को भी नहीं मारा क्यों की मेरा ऐसा मानना है के  ये भी तो इस दुनिया में आये  इनका भी जीने का हक़ है ! और ये भी अपना जीबन इस धरती पर सुकून के साथ काटना चाहते है ! मेने सिरु से ही ईशबर पर भरोसा किया है ! हमेसा ईशबर के बताये हुए नियमो पर ही चला हु ! मेरा दिल
ऐसा है के मेरी  इश्बर के नियमो के खिलाफ चलने की मेरी हिम्मत ही नही होती ! मै रोजाना अपने बक्त को बेहतर बानाने के लिए कोसिस करता हु ।

रोज अपने रब से दुआ करता हु और अपने रब पर भरोसा रखता हु ! पर ना जाने क्यों मेरा बक्त अब और बदतर होता जा रहा है  लेकिन मुझे अपने  रब से कोई गिला नही है ! जब की मेरे साथ ऐसा भी होता आया है के

  1. जिस चीज़ को मेने सबसे ज्यादा प्यार किया बो ही चीज़ ने मेरा साथ छोड़ दिया ! जिस काम को मै करने की सोचता यहाँ तक की मै  सिर्फ चालू करने की देर होती थी उसी बक्त मेरा काम ऐसा बिगड़ता के फिर उस काम को मेरा कभी करने का दिल नही करता एक  नफरत सी हो जाती है मुझे ! और जिस से भी म सबसे ज्यादा मोहब्बत करता जिस के बिना म एक पल नही रह पाता ! थोड़ा बक्त गुजरता के ना जाने क्यों मुझे उससे भी इतनी नफरत हो जाती के फिर म उस की साकल देखना पासांद नही करता ! पूरा दिन खराब बीतने के बाद सोचता के सायद कल बहेतर होगा और अपनी आखोमें बहेतर कल का सपना लेकर सो जाता ! लेकिन जिस का जीबन ही खराब हो उस की जिंदगी में ना जाने कितने कल आएंगे लेकिन सब एक जैसे  होंगे

तंगी और पेसो की परेशानियों को देखते हुए मेने पढ़ाई छोड़ दी
और अपनी जेब खर्च के लिए मेने अपनी एक मोबाईल की दुकान दाल दी !
जिस से मुझे थोड़ा सहारा लगा ! म हर धम पैसे कुमाने की कोई ना कोई तरकीब खोजता रहता हु ! मुझे दुशरो को किसी परेसानी में देख कर एक गम सा  लग जाता है और उनको उस परेसानी  से मुक्ति दिलाने में बहुत  खुसी प्राप्त होती है ! म दुसरो को किसी परेसानी से मुक्ति दिलाने के लिए अपने आप  को भी परेसानी में ड़ाल  सकता हु ! मै अपने रब से यही उम्मीद करता हु  के कभी न कभी रब को मेरी इस हालत पर जरूर रहम आएगा !और  बश लगा रहता हु अपने रब की इबादत करने ! मेने आज तक किसी से झूट  नही बोला। चोरी नही की। मेरे माँ बाप से अभी तक ऊँची  आबाज़ में बात नही  की और ना ही आज तक किसी को धोका  दिया !क्यों की मै अपने रब  पर भरोसा करता हु मेरा रब मुझे इस बात की इज़ाज़त नही देता के मै उनके  बानाये हुए नियमो के खिलाफ चलु ! मुझे अपने रब से कोई गिला नही है  ! क्यों की मै अपने रब से इस हाल में भी राजी हु और उम्मीद करता हु  के मेरा बक्त भी कभी ना कभी आएगा ! मुझे मेरे रब ने दो चीज़ सबसे

No comments:

Post a Comment

life की मुहब्बत भरी बाते