Skip to main content

एक आमीर आदमी ने गरीब से लिए ज़िन्दगी जीने के राज़ ...

💆 जब एक अमीर ने गरीब से किया साबाल  👲




देश में कितने ही गरीब होंगे जो की गरीब है फिर भी अपनी ज़िन्दगी से खुस है । हम खुद ही देखते है की एक तरफ एक गरीब है जो की सौ रूपये रोज कुमाता है । और एक तरफ एक अमीर है जो की पांच हजार रूपये रोज कुमाता है  पर इस की जिंदगी में चैन नही है  । 
 आज ऐसी एक कहानी है की एक  अमीर आदमी अपनी इस इस मुख़्तसर सी ज़िन्दगी में इतना बिज़ी हो गया कि वो दो लम्हे भी अपने परिवार के साथ मिलकर नही गुजार रहा था वो जब भी अपने घर में आता तो सिर्फ कंपनी को बड़ाने की फिक्र मे रहता था  !  ऎसा कोई भी दिन नही जाता के उस के घर में कोई लड़ाई झगड़ा  नहीं होती हो  ! और वह पैसा कमाने में इतना इतना खो गया के दिन भर अपने  रुपयों को बड़ाने मे लगा रहता था!  रात को नींद नहीं आती थी और वह सोने के लिए नीद की गोलियों का सेवन करता था !  
और उस के घर के सामने एक घर था जो कि एक गरीब परिवार था का था पर उस के घर  में हमेसा खुसी रहता था । बह एक साईकिल रिक्सा जिसे की पेडल रिक्सा भी कहते है उसे चलाता था और दिन भर मेहनत करने के बाद 100 या 150 रूपये कुमाता था । जिसे की बह खाना और जरुरी सामान ले आता और बचे हुए पैसो को जोड़ने के लिए रख देता । उन का ऐसा मामूल था जैसे रोजाना कुआ कखोदना और रोजाना पानी पीना । पर बो अपनी इस जिंदगी से खुस थे उस की बीबी भी बेचारी सब्र बाली थी जो की इस गरीबी की जिंदगी में भी कोई शिकायत नही करती थी । और उस अमीर आदमी की जिंदगी एक टेंसन में गुजर रही थी मॉल को बढ़ाने के चक्कर में । पर अमीर आदमी जब भी घर से बहार जाता तो बो उस गरीब के घर की तरफ जरूर देखता और सोचता के मै जितना एक दिन में  कुमाता हु उतना ये एक महीने में भी नही कुमाता तो इस के जीबन ममें इतनी खुसी कैसे है । बो इतना सोच कर ऑफिश के लिए रबाना हो जाता । एक दिन बो ऑफिश से आ रहा के राश्ते में देखता है के बो गरीब  आदमी अपने रिक्शे में आराम से लेट रहा था एक पेड़ के नीचे  । फिर बो गरीब  के पास जाकर कहता है के भाई आप इतना कम कुमाते हो पर हर लम्हे को खुल कर जीते हो । और हमेशा आप के घर में एक खुसी सी रहती है। आप को इतना कम पैसे का टेंसन नही होता क्या आप की रात को नींद  में आ जाती है इतने कम खुशियो के साथ । तो फिर उस गारीब ने कहा साहेब हमारे पास एक बहुत बड़ी चीज़ होती है जो की आपके पास नही होती और बो चीज़ है सब्र । मुझे मेरे रिक्शे से अगर सौ रूपये भी मिल जाते है तो मे उस पर सब्र करता हु ना की उन्हें और ज्यादा करने के लिए टेंसन करने लगता हु । दिन के हर लम्हे को एक खुसी के साथ बिताता हु । में आधा बक्त मेरे रोजगार की तलाश में और आधा बक्त अपने परिबार के साथ बिताता हु । जो कुछ मिल जाता है उसे अपने परिबार की खुसी के लिए खर्च करता हु और कुछ अगर बच भी जाता है तो उसे जोड़ लेते है । यदि मुझे कभी किसी दिन थोड़ी मात्रा में रूपये कुमाये जाते है तो में टेंसन नही करता क्यों की  किसी बड़े बुजुर्ग ने जो कहा है बो सही कहा है " के बक्त से पहले और किस्मत से ज्यादा किसी को नही मिलता " में भी इसी बात पर बिश्बास करता हु । मै सिर्फ आज की फ़िक्र करता हु कल की कल देखा जायेगा मेरे मन में ये बिचार रहते है । और रही बात नींद की तो ना ही तो मेरे पास इतना धन है जिस के चोरी हो जाने का डर हो और ना ही मेरे पास इतने ब्यपार है जिसमे नुक्सान होने का डर हो तो मेरी नींद कहा जायेगी । मै हमेशा खुस रहता हु । तो अमीर आदमी ये बात सुन कर आँखो में आँशु ले आया । और फिर उस को अपना हाल मालूम हुआ  । फिर उस ने अपना काम का तरीका बदल डाला और फिर बो अपने बक्त में से कुछ बक्त अपने परिबार को देने लगा और बह अपने काम में भी बदलाव करने लगा तो बाकई उस के जीबन ने खुसी आने लगी जब की बी अब पांच हजार की जगह एक हजार कुमाने लगा पर हर लम्हा एक प्यार भरी ज़िन्दगी के साथ बीतने लगा । फिर उस की मुलाक़ात उस गरीब से हुई तो उसने उस को बोला की अबतक तो मै अपने बक्त को काट रहा था लेकिन जीना तो तुझी ने सिखाया मुझे । क्या है जिंदगी तूने मुझे बताया   । और फिर उसने उस गरीब आदमी को धन्यबाद बोला । उसने उस गरीब आदमी को कुछ पैसे भी देना चाहे लेकिब उस गरीब आदमी ने लेने से मना कर दिया और  उसने कहा के मेने तुझे क्या दिया है जो में आपसे पैसे लू ? मेने तो आपको सिर्फ मेरी ज़िन्दगी की कहानी आपको बताई है अगर इससे आपको कुछ समझ में आया है तो बहुत अच्छी बात है। इतना कह कर दोनों अपने कम पर चले जाते है ।
Post a Comment

Popular posts from this blog

एक गरीब की दर्दनाक प्रेम कहानी ! A dangerous love story

दोस्तो प्यार कुछ चीज़ ही ऐसी बनाई है खुदा ने के जिस को एक बार हो जाता है ना तो उसे अपने महबूब की हर अदा पसंद आती है । 

महबूब की चाल , महबूब की आबाज,
महबूब की आँखे....
दोस्तो उस की तारीफ तारीफ किये जाता है लेकिन बो.....  जो बाकई अपने महबूब से प्यार करता हो । तो उसे अदा पंसद आती है ।
बर्ना आपको तो खूब पता है के आज के नौ जबानों को क्या पसंद आती है ।
चलो जाने दो हम तो हमारी कहानी पर आते है ।
दोस्तो आज मैं एक ऐसी ही कहानी लाया हूं जिसे सच मे पड़ कर आप बर्दास्त नही कर पाएंगे ।
तो चलो अपनी कहानी पर आते है ।

एक शहर में एक बहुत बड़ा  business man  रहता था जो कि साथ मे नामी गुंडो से मिला जुला था । यानी उस की गिनती दबंगो में होती थी । सब उस से डरते थे । उस की एक लड़की जिस का नाम था रीनू । 





रीनू बहुत ही बदमास और  नटखट किस्म की लड़की थी । जो कि हमेसा किसी को ना किसी को छोटी छोटी बात  पर सजा देती रहती थी । रीनू किसी पर भी दया नही करती थी । क्यो की उसे अपने पापा की इस ताकत पर घमण्ड था । बो इंसान को इंसान नही समझते थे । सब से दादागिरी से बात करना । बही दूसरी तरफ एक लड़का था जिस का नाम था सूरज


 सूरज था तो एक…

मुहब्बत की एक अजीबो गरीब प्रेम कहानी ।

दोस्तो आज के इस युग मे आज से क्या बल्कि बहुत पहले से ही जब से ईशबर ने इंसान के सीने में दिल दिया है तब से और आज तक सायद ही ऐसा कोई इंसान हो जिस ने कभी ना कभी किसी से प्यार ना किया हो ....!चाहे बो कैसे भी और किसी भी रूप में हो ।
दोस्तो हर इंसान चाहता है के उस का  पार्टनर खूबसूरत और सुंदर होना चाहिए ।
कोई भी काला या बदसूरत पासन्द नही करता । पर आपको शायद ये पता नही के खूबसूरती तो चंद दिनों की होती है असल तो मुहब्बत कायम रहती है । पार्टनर चाहे कैसा भी हो लेकिन अगर उस के अंदर आपके लिए मुहब्बत है तो आपके पास दुनिया की सारी खुशियां है और मुहब्बत नही है तो उस के पास चाहे दुनिया की सारी दौलत हो लेकिन उस की ज़िंदगी  उसे अच्छी नही लगती ।
दोस्तो आज मैं आपके सामने एक ऐसी ही प्रेम कहानी लेकर आया हु जिसे पड़ कर आप सोचने पर मजबूर हो जाएंगे ।
एक सहर में एक ब्यापारी का लड़का रहता था । जो कि बहुत ही नटखट था । बो बहुत ही सुंदर और चालाक था ।


 हमेसा मौज़ मस्ती । दिन भर दोस्तो के साथ रहना , खाना पीना , आशिकी और दिल लगी करना सब एक खेल सा था उस के लिए  लकडियाँ पटाना । उन से पैसे ऐठना सब उस के लिए आसान था । बो…

गरीब के दिल की ह्मदर्दी । कहानी एक सफर की

दोस्तो ये दुनिया बहुत बड़ी है । और इस दुनिया मे सब तरहा के लोग है ।



जैसे :- अमीर गरीब , काला गोरा , लाम्बा छोटा , मोटा पतला हर तरह के लोग रहते है और दिल सब के पास रहता है लेकिन ना जाने क्यों ये कमबख्त दिल है ना किसी किसी का सिर्फ धडकने का काम करता है और किसी किसी का दिल है जो दो काम करता है ।
एक तो खुद के लिए धड़कता और एक दुसरो के लिए ।
कैसे....????
चलो मैं बताता हूं  कैसे दुसरो के लिए धड़कता है । गर्मियों के दिन थे । स्कूल की छुट्टियां सिरु हो गई तो मैने और मेरे कुछ दोस्तो ने कहि घूमने का पिलान बनाया ।

 मेने अखबार में देखा के एक बस घुमाने के लिए जा रही है जो कि 3 हजार रुपये में एक सप्तहा घुमाएगी । तो मैने मेरे तीन दोस्तो को ये बात बताई और हम तैयार हो गए । हम चारो ने अपने बैग तैयार कर के जयपुर हो लिए राबाना हो लिए  और उस बस बाले से जा मिले जो कि सात दिन के टूर पर जा रही था । हम  चारों ने तीन तीन हजार रुपये जमा करा दिए । हमारे आने से बस की सारी सीटे फुल हो गई और बस राबाना हो गई । मेरे तीन दोस्त एक सीट पर थे और में एक सीट पर बैठा था जिस पर एक अंकल और एक आंटी और एक उनका छोटा सा बेबी था ।…