Skip to main content

दुनिया के पांच खतरनाक सच । जिसे आप पड़ कर कहेंगे ! के ये सच नही हो सकता ...लेकिन बो सच है

दोस्तों ये दुनिया बहुत बड़ी है और बहुत पुरानी भी है । इस दुनिया के अंदर कितने ही ऐसे  रहस्य है जिनके बारे में हम सोच भी नही सकते । और हमारी सोच भी बहाँ तक नही जा सकती । चलो आज के इस ब्लॉग में मै आपको ऐसे पाँच रहस्यों के बारे में बताऊंगा जिस को आप पड़ कर कहेंगे " ऐसा नही हो सकता " लेकिन ऐसा हुआ है और सच है ।
NO.1  पेड़ में धसा हुआ साईकिल  !


क्यों नही हुआ न यकीन ???
तो ये भी बताता हूं के ये कहा कि बात है
ये पेड़ स्थित है बसिंगटन के बसन आइलैंड में ।
देखने से ऐसा लगता है के जैसे पेड़ ने साईकिल को खाने की कोसिस की लेकिन आदा ही खा पाया



ये क्या है और आप इस बारे में क्या सोच सकते है ।

लेकिन इस के पीछे बहाँ के लोगो ने कई कहानियां बना दी है जैसे के
ये साईकिल एक  लड़के की है बो उस साईकिल को नया खरीद कर लाया था
कि अचानक जंग का एलान हो गया बो जंग लड़ने के लिए चला गया और जंग में मारा गया । तो ये साइकिल काफी सालो तक उसी पेड़ से लग कर खड़ी रही और बाद में ये उस पेड़ में धसने लग गई ।
और दूसरी कहानी है  की 1950 में एक आदमी ने अपनी साईकिल इस पेड़ के नीचे रखकर इसई आइलैंड को हमेसा हमेसा के लिए छोड़ कर चला गया । और कुछ लोग इसे एक जादू कहते है । लेकिन ऐसा नही हो सकता । क्यों की ऐसे ही एक पेड़ के पास मोटरसाइकिल भी खड़ी थी और उसे भी पेड़ ने अपने अंदर समाना सिरु कर दिया है
। जो इस तस्बीर में आसानी से देखि जा सकती है ।

NO.2  सत्तर साल से फसा ट्रैफिक जाम


। दोस्तों पांच मिनिट का टिरेफिक जाम ही हमे बोर कर देता है
तो ऐसे टिरेफिक जाम का क्या होगा जो सत्तर साल बल्कि उस से भी पुराना है

जी है ये ट्राफिक सत्तर साल से भी पुराना है और तब से आज तक यु ही फसा है ।
चलो इस की हकीकत भी बताता हूं ।
दरसल बात ये है के सत्तर साल पहले ये कारे नई थी बिल्कुल चमकती हुई । लेकिन चलते चलते अचानक इन्हें रुकना पड़ा । और जब ये ऐसी रुकी के आज तक यु ही रुकी पड़ी है ना कभी इनके मालिक इन्हें लेने आये । और ये जगह कारो का समसान बन गया
ये रहस्मयी जगह मौजूद है यूरोप के एक बेल्जियम जंगल में है इन कारो को यहाँ छोड़ा गया है  पर क्यों ....????
असल में ये कारे बेल्जियम के अमरीकी सेनिको का थी और दुबतीय बिस्ब युद्ध में उन्हें अपनी कीमती कारो को छोड़ कर जाना पड़ा ।
तो उनके पास जो कारे मौजूद थी तो उन्होंने सोचा के इन कारो को जंगल में छुपा कर रख और जंग से आ कर ले लेंगे ।
लेकिन जब बो जंग से आये तो उन कारो का खर्च अपने घर ले जाने में उस की कीमत से भी ज्यादा बैठ रहा था इस लिए ये लोग इन कारों को यहाँ जंगल में ही छोड़ गए और नही लेकर गए । तब से आज तक ये करे यही पड़ी हुई है  ।

NO.3 फोरटूगल में हुआ अंजल हेअर का बारिस !



समझ में नही आया ..????

कोई बात नही म बताता हूं ।
के 1951 फोरतुगल नाम के एक सहर में दुपहर के बाद अचानक रेसमी धागों जैसी दिखने बाली एक अजीब से चीज़ गिरने लगी । लोग घर से भार आकर देखने लगे इस बिचित्र घटना को । मानो रेसमी धागों की बारिश हो रही है । और दिन को बहाँ के लोगों में अंजल हेअर डे बोला गया । ये चीज़ जब जमीन पर गिरी तो देखा के ये एक मकड़ी के जाले जैसी है । और चौकाने बलि बात है ये के ये चीज़ जब जमीन पर गिरती तो इनके अंदर जो जीब थे बो ज़िंदा हो जाते थे । इस चीज़ को देखते हुए बैज्ञानिको ने बताया के सायद ये हमारे ही ग्रह के प्राणी है जो की बाययुमंडल में रहते है । और आज किसी कारण बस जमीन पर आ गए है ।

NO.4 और अब ये तो बहुत ही चौकाने बाली बात है  !

जो आप सायद इस पर यकीन नही करेंगे ..!


के 1955 में अचानक गायब हुआ बिमान 37 साल के बाद बापस जमीन पर आया । 1955 में बिमान नंबर 147 ने 57 यात्रियों के साथ उड़ान भरा ।
न्यूयॉर्क से मयामी के लिए रबाना हुआ । लेकिन बो बिमान कभी मयामी पहुचा ही नही । लेकिन 37 साल के बाद अचानक उसी बिमान ने कराकास मेनोजोएला नाम के हबाई अड्डे पर लेंड किया और बहाँ के करट्रोल टाबर के साथ बात भी की ।
कंट्रोल टीम के रडार पर कुछ नही था के अचानक उस बिमान को देखकर सब हैरत में आ गए । जब बो बिमान उस जगह उतरा तो बिमान के सभी यात्री उसी हालत में थे और उनको ऐसा लग रहा था जैसे बो कुछ देर पहले ही घर से चले हो । जब उन यात्रिओ ने भार भबिस्य की नई चीज़ों को देखा तो बो घबरा गए । क्यों की 37 सालो में काफी कुछ बदल गया था । पाइलेट के बातो से पता चल रहा था के बो लोग बहुत घबराये हुए थे ।
उस के पाइलेट ने पूछा के बो कहाँ है तो जबाब में करट्रोल टाबर के कर्मी ने कहा के ये साल 1992 है और आप कराकास के मेंउजेअला के हबाई अड्डे पर है तो बो ये सुन कर और भी घबरा गया । उस के बाद उस पाइलेट ने खिड़की खोल के हाथ निकाला और कहा के हमसे दूर रहो और इतना कह कर उस ने दुबारा बिमान चालु किया और उड़ गए फिर हमेसा हमेसा के लिए आसमान में खो गए ।
और आज तक बो बापिस नही आये । लेकिन जाने से पहले उस पाइलेट के हाथ से उसका 1955 का एक कलेंडर गिर गया जो इस घटना के होने का सबसे बड़ा सबूत है ।
और करट्रोल टाबर पर हुई बात की रिकॉर्डिंग और बहाँ के मौजूद लोग इस बात के होने का पक्का दाबा करते है
NO.5 गोरिल्ला के हाथ बाला बिचित्र पिराणी  !

फिल्मो में दिखने बाले अजीबो गरीब पिराणी अभी तक दुनिया के किसी हिस्से में मौजूद हो सकता है । इस बात से कोई मना नही कर सकता । क्यों की दुनिया कोई छोटी मोटी नही है । बहुत सी ऐसी जगह है जहां पर आज तक मानाब नही पहुच पाया है ।
ऐसा ही एक प्राणी मिला था ऑस्ट्रेलिया के एक अजगर साँप के मुह में
। उंसलेंड ऑस्ट्रेलिया में एक आदमी ने अपनी दादी के घर के पास से ये तस्बीर ली है । अगर आपको ये अजगर अजीब नही लगता तो इस अजगर के मुह में जो प्राणी है उसे दिखिए । जो एक बिसाल चंदागड़ जैसा लगता है । और उससे से भी ज्यादा चौकाने बाली बात ये है के इस चंदागड़ का हाथ एक गोरिल्ला जैसा लग रहा है ।
बो एक चंदागड़ था या एक अजीब पिराणी ये एक बिबाद बना हुआ है  ।
कुछ लोग दाबा करते है के बिसाल चंदागड़ होते है । लेकिन बैज्ञानिको के अनुसार फलाइंग फॉक्स नाम का चंदागड़ ही सबसे बड़ा चंदागड़ है ।
लेकिन जो अजगर ने खाया था बो क्या है फ़्लाइंग फॉक्स या अजीब देखने बाला बो प्राणी ???
तो दोस्तों आज के लिए इतना ही ....
और दोस्तों इससे भी अच्छी कहानी सायरी और भी बहुत कुछ जानना हो तो हमारी साईट
www.pyarablog.blogspot.com
पर ओके करे और अच्छी से अच्छी कहानी और भी जिंदगी से जुडी चीज़े पा सकते है
Post a Comment

Popular posts from this blog

एक गरीब की दर्दनाक प्रेम कहानी ! A dangerous love story

दोस्तो प्यार कुछ चीज़ ही ऐसी बनाई है खुदा ने के जिस को एक बार हो जाता है ना तो उसे अपने महबूब की हर अदा पसंद आती है । 

महबूब की चाल , महबूब की आबाज,
महबूब की आँखे....
दोस्तो उस की तारीफ तारीफ किये जाता है लेकिन बो.....  जो बाकई अपने महबूब से प्यार करता हो । तो उसे अदा पंसद आती है ।
बर्ना आपको तो खूब पता है के आज के नौ जबानों को क्या पसंद आती है ।
चलो जाने दो हम तो हमारी कहानी पर आते है ।
दोस्तो आज मैं एक ऐसी ही कहानी लाया हूं जिसे सच मे पड़ कर आप बर्दास्त नही कर पाएंगे ।
तो चलो अपनी कहानी पर आते है ।

एक शहर में एक बहुत बड़ा  business man  रहता था जो कि साथ मे नामी गुंडो से मिला जुला था । यानी उस की गिनती दबंगो में होती थी । सब उस से डरते थे । उस की एक लड़की जिस का नाम था रीनू । 





रीनू बहुत ही बदमास और  नटखट किस्म की लड़की थी । जो कि हमेसा किसी को ना किसी को छोटी छोटी बात  पर सजा देती रहती थी । रीनू किसी पर भी दया नही करती थी । क्यो की उसे अपने पापा की इस ताकत पर घमण्ड था । बो इंसान को इंसान नही समझते थे । सब से दादागिरी से बात करना । बही दूसरी तरफ एक लड़का था जिस का नाम था सूरज


 सूरज था तो एक…

मुहब्बत की एक अजीबो गरीब प्रेम कहानी ।

दोस्तो आज के इस युग मे आज से क्या बल्कि बहुत पहले से ही जब से ईशबर ने इंसान के सीने में दिल दिया है तब से और आज तक सायद ही ऐसा कोई इंसान हो जिस ने कभी ना कभी किसी से प्यार ना किया हो ....!चाहे बो कैसे भी और किसी भी रूप में हो ।
दोस्तो हर इंसान चाहता है के उस का  पार्टनर खूबसूरत और सुंदर होना चाहिए ।
कोई भी काला या बदसूरत पासन्द नही करता । पर आपको शायद ये पता नही के खूबसूरती तो चंद दिनों की होती है असल तो मुहब्बत कायम रहती है । पार्टनर चाहे कैसा भी हो लेकिन अगर उस के अंदर आपके लिए मुहब्बत है तो आपके पास दुनिया की सारी खुशियां है और मुहब्बत नही है तो उस के पास चाहे दुनिया की सारी दौलत हो लेकिन उस की ज़िंदगी  उसे अच्छी नही लगती ।
दोस्तो आज मैं आपके सामने एक ऐसी ही प्रेम कहानी लेकर आया हु जिसे पड़ कर आप सोचने पर मजबूर हो जाएंगे ।
एक सहर में एक ब्यापारी का लड़का रहता था । जो कि बहुत ही नटखट था । बो बहुत ही सुंदर और चालाक था ।


 हमेसा मौज़ मस्ती । दिन भर दोस्तो के साथ रहना , खाना पीना , आशिकी और दिल लगी करना सब एक खेल सा था उस के लिए  लकडियाँ पटाना । उन से पैसे ऐठना सब उस के लिए आसान था । बो…

गरीब के दिल की ह्मदर्दी । कहानी एक सफर की

दोस्तो ये दुनिया बहुत बड़ी है । और इस दुनिया मे सब तरहा के लोग है ।



जैसे :- अमीर गरीब , काला गोरा , लाम्बा छोटा , मोटा पतला हर तरह के लोग रहते है और दिल सब के पास रहता है लेकिन ना जाने क्यों ये कमबख्त दिल है ना किसी किसी का सिर्फ धडकने का काम करता है और किसी किसी का दिल है जो दो काम करता है ।
एक तो खुद के लिए धड़कता और एक दुसरो के लिए ।
कैसे....????
चलो मैं बताता हूं  कैसे दुसरो के लिए धड़कता है । गर्मियों के दिन थे । स्कूल की छुट्टियां सिरु हो गई तो मैने और मेरे कुछ दोस्तो ने कहि घूमने का पिलान बनाया ।

 मेने अखबार में देखा के एक बस घुमाने के लिए जा रही है जो कि 3 हजार रुपये में एक सप्तहा घुमाएगी । तो मैने मेरे तीन दोस्तो को ये बात बताई और हम तैयार हो गए । हम चारो ने अपने बैग तैयार कर के जयपुर हो लिए राबाना हो लिए  और उस बस बाले से जा मिले जो कि सात दिन के टूर पर जा रही था । हम  चारों ने तीन तीन हजार रुपये जमा करा दिए । हमारे आने से बस की सारी सीटे फुल हो गई और बस राबाना हो गई । मेरे तीन दोस्त एक सीट पर थे और में एक सीट पर बैठा था जिस पर एक अंकल और एक आंटी और एक उनका छोटा सा बेबी था ।…