Skip to main content

एक आत्मा की इमोशनल प्रेम कहानी ।Emotional love story of a soul

दोस्तो माफ करना अब की बार जरा लेट हो गया स्टोरी लिखने में क्यो की अब मैं अपना चैनल Freedom life  यूटब पर चला रहा हु इस लिए ।
तो जाने दो हम तो हमारे उस टॉपिक पर आते है जिस पर मैं आज आपसे चर्चा करूँगा ।



दोस्तो आज का टॉपिक थोड़ा अजीबो गरीब है पर आप से बिनती है के आप या तो इस से आगे पड़े नही और यदि आप पड़ना चाहते हो तो कृपया इसे फिर पूरा पड़े । या फिर यही तक पड़े क्यो की आगे ऐसी बात आने बाली है जिस से आप डर जाए....
दोस्तो आज का हमारा ब्लॉग है के क्या बाकई भूत जिनं आत्माएं होती है ।
तो दोस्तो अगर इस बात पर सर्वे किया जाए  तो 70% लोग कहेंगे के कोई भूत बूत नही होते । और 30% लोग कहते है के बाकई आत्माएं होती है । दोस्तो अगर मैं आप से इस सबाल को पूछू के बाकई होते है क्या ...????
तो आप अपना जबाब मुझे कमेंट बॉक्स में जरूर  बताइये । दोस्तो हम ने खूब सुना होगा और हमारी दादी या कोई भी किसी बूढ़े  इंसान से आपकी मुलाकात हुई होगी और बो बूढे इंसान ने यही कहा होगा के हाँ उन्होंने भूत को देखा है या फिर कहेगा के उसने फलां आदमी को कुश्ती लड़ते देखा है । या फिर बड़े बुजुर्ग के पास हम बैठ कर इस बात का जिक्र करते है तो बो बहुत सारे किस्से हमे सुना देगा । लेकिन दोस्तो हमे यकीन नही होगा । क्यो की हमरा पाला कभी भूत से पड़ा ही नही  । तो हमे यकीन भी नही ।
चलो दोस्तो आगे अपने पॉइंट पर आते है । जो कि एक सच्ची कहानी है ।
जिसे जब मैं छोटा था और कहानियों में मज़ा लेता  करता था तब मुझे किसी ऐसे ही एक बुजुर्ग ने ये कहानी सुनाई जो उस के पड़ोस में घटित हो गई थी । के एक पिसाज़ मतलब  जिन्नात की लड़की जिसे आप कोई भी रूप दे सकते हो लेकिन बो इंसान नही थी ।  जो कि बड़ी ही खूबसूरत थी ।



 और उस का नाम था एंगल । उस का इंसानो से बहुत लगाब था । हमेसा बो अपना भेष बदल कर इंसानो के बीच मे ही रहना पसन्द  करती थी । लोगो की मदत करने में उसे बड़ा मजा आता था । बो अपना सारा बक्त लोगो की खिदमत करने में ही निकालती थी ।
एक दिन कहि से एक बंजारों का गिरोह एक मैदान में आकर रुका हुआ था । उस गिरोह का जो सरदार था बो एक नजूमी था ।



 नजूमी मतलब बो बक्त की बातों को पहले ही पहचान लेता था । उस को इतनी ताखत थी के बो किसी को भी अपने बस में कर लेता था । चाहे बो कितना ही बड़ा जिन्न हो । बो जो सरदार था बो इतना मतलबी था के बो अपने फायदा के लिए किसी की भी जान को जोखिम में डाल देता था । एक डाकुओ का ग्रुप को उन के बारे में पता लग गया था । तो बो उन पर आक्रमण के इरादे से चल दिया ।  उस तांत्रिक सरदार को किसी तरह पता लग गया के डाकू उन पर हमला करने आ रहे है । तो उसने दिमाक लगाया के अगर मैं इन काबिले बालो के साथ रहूंगा तो मारा जाऊंगा इससे अच्छा तो मैं कहि भाग जाता हूं । और बो ये सोच कर बहाँ से भाग लिया । कुछ देर बाद डाकुओ ने उस काबिले पर हमला कर दिया सारा माल लूट लिया उस लड़ाई में काबिले के काफी लोग भी मारे गए और कुछ घायल हो गए । जब एंगल को जब ये बात मालूम हुई तो बो उन काबिले बालो के पास गई और घायलों की मदत करने लग गई । उस तांत्रिक सरदार को जब पता लगा के डाकू जा चुके है तो बो बहाँ बापस आया ।  उसने जब एंगल को देखा तो बो उसे पहचान गया के ये कोई इंसान नही है और उसने उस पर जादू करना सिरु कर दिया और उसने एंगल को अपने बस में कर के कैद कर लिया । बो अब उसे अपने गिरोह से कोई मतलब नही अब तो बो उसे लेकर चल दिया । और उसे एक जंगल मे जाकर बांध दिया । और उस की सक्तियो को नष्ट करने लग गया । वहाँ जंगल मे एक लकड़हारा लकड़ी काटने आता था । उसने जब एंगल को एक पेड़ से बंधा हुआ पाया । उसने कुलहाड़ी से एंगल की बंधी हुई रस्सी को काट दिया । उसे तांत्रिक ने देख लिया तो तांत्रिक ने उस पर तलबार से हमला किया इस से लकड़हारा घायल हो गया लेकिन आपना बचाब करते हुए बो एंगल को लेकर भाग गया और तांत्रिक उन्हें ढूंढता रह गया । एंगल को अब लकडी काटने बाला पसन्द आ गया । क्यो की बो सुंदर था । लेकिन लकड़ी काटने बाला डरपोक था



। और उसे सबसे ज्यादा डर तो भूत परेजो से लगता था । और उसे पता नही था के एंगल इंसान नही है । बो एंगल को इंसान ही समझता था । अब जब भी बो लकड़ी काटने जाता तो एंगल भी आ जाती और उस की मदत करती थी । इस से उन दोनों के अंदर काफी प्यार बाद गया था दोनो एक दूसरे को बहुत प्यार करने लगे एक दूसरे के लिए जान देने लगे । बक्त के हिसाब से ही उन्होंने सादी कर ली । इन दोनों की सादी को पांच साल हो गए अब उनके दो बच्चे भी थे । एक दिन बो अपने बच्चो के साथ रात को सो रहे थे के की रात के 12 बज गए तो लकड़हारे ने कहा के चिराग को भुझा दो । एंगल ने कहा के आप सो जाओ मैं भुझा  दूंगी थोड़ी देर बाद एंगल ने लकड़हारे की तरफ देखा और सोचा के सायद ये सो गया और अपने हाथ को जादू से काफी लंबा किया उस चिराग को भुझा दिया । लकड़हारा उस बक्त तक सोया नही था और उसने उस को ऐसा करते देख लिया । तो उसने तो अब चिल्लाना सिरु किया  । एंगल ने काफी समझाया लेकिन उस के कुछ समझ मे नही आया । और बो अब उस से डरने लगा बो जैसे ही पास आती तो बो डर के पीछे हो जाता । इस चिल्लाने से पूरे पड़ोसी एक्खट्टे हो गए और उस लकड़हारे ने उन पड़ोसियों को ये सारी बात बता दी ।
अब कोई पड़ोसी उसे चुडेल बताता , कोई भूतनी बताता , कोई आत्मा बताता और ऐसा कह कर उस पर पत्थर मारने लगे । एंगल ने किसी से कुछ ना कहा और सिर्फ अपने लकड़हारे से उसने एक बात कही के अब सायद हम साथ नही रह सकते लेकिन मैं आपको हमेसा प्यार करूँगी और मेरे बच्चो का ख्याल रखना । ये कह कर बो बहाँ से चली गई ।
लकड़हारा तो इतना डरा हुआ था के बो अब उन बच्चो से डर रहा था जो कि उसके थे । उन्हें मरता पीटता और उनसे बोलता के हाथ लंबा कर के दिखा .....
उन्हें बार बार मारता पीटता ...।
जब लोगो ने उसे समझाया के ये तो बच्चे है और कैसे भी हो तेरे है तो क्यो इनको मार पीट रहा है । आखिर इनका क्या कसूर है ।
तो बात लकड़हारे के समझ मे आ गई ।
कुछ ही दिन बीते थे के लकड़हारे को एंगल की कमी महसूस होने लगी और उसे खुद की गलती मालूम होने लगी लेकिन अब बो क्या करे क्यो की एंगल ने उस इंसान हो हमेसा के लिए छोड़ दिया था ।
तो दोस्तो सायद ये बात आपके समझ मे नही आई होगी लेकिन जब मैने भी ये कहानी सुनी तो दिल मे बहुत से सबाल आये ।
सायद आपके भी आ रहे होंगे । लेकिन जाने दो आगे की सोचो ।
Post a Comment

Popular posts from this blog

एक गरीब की दर्दनाक प्रेम कहानी ! A dangerous love story

दोस्तो प्यार कुछ चीज़ ही ऐसी बनाई है खुदा ने के जिस को एक बार हो जाता है ना तो उसे अपने महबूब की हर अदा पसंद आती है । 

महबूब की चाल , महबूब की आबाज,
महबूब की आँखे....
दोस्तो उस की तारीफ तारीफ किये जाता है लेकिन बो.....  जो बाकई अपने महबूब से प्यार करता हो । तो उसे अदा पंसद आती है ।
बर्ना आपको तो खूब पता है के आज के नौ जबानों को क्या पसंद आती है ।
चलो जाने दो हम तो हमारी कहानी पर आते है ।
दोस्तो आज मैं एक ऐसी ही कहानी लाया हूं जिसे सच मे पड़ कर आप बर्दास्त नही कर पाएंगे ।
तो चलो अपनी कहानी पर आते है ।

एक शहर में एक बहुत बड़ा  business man  रहता था जो कि साथ मे नामी गुंडो से मिला जुला था । यानी उस की गिनती दबंगो में होती थी । सब उस से डरते थे । उस की एक लड़की जिस का नाम था रीनू । 





रीनू बहुत ही बदमास और  नटखट किस्म की लड़की थी । जो कि हमेसा किसी को ना किसी को छोटी छोटी बात  पर सजा देती रहती थी । रीनू किसी पर भी दया नही करती थी । क्यो की उसे अपने पापा की इस ताकत पर घमण्ड था । बो इंसान को इंसान नही समझते थे । सब से दादागिरी से बात करना । बही दूसरी तरफ एक लड़का था जिस का नाम था सूरज


 सूरज था तो एक…

मुहब्बत की एक अजीबो गरीब प्रेम कहानी ।

दोस्तो आज के इस युग मे आज से क्या बल्कि बहुत पहले से ही जब से ईशबर ने इंसान के सीने में दिल दिया है तब से और आज तक सायद ही ऐसा कोई इंसान हो जिस ने कभी ना कभी किसी से प्यार ना किया हो ....!चाहे बो कैसे भी और किसी भी रूप में हो ।
दोस्तो हर इंसान चाहता है के उस का  पार्टनर खूबसूरत और सुंदर होना चाहिए ।
कोई भी काला या बदसूरत पासन्द नही करता । पर आपको शायद ये पता नही के खूबसूरती तो चंद दिनों की होती है असल तो मुहब्बत कायम रहती है । पार्टनर चाहे कैसा भी हो लेकिन अगर उस के अंदर आपके लिए मुहब्बत है तो आपके पास दुनिया की सारी खुशियां है और मुहब्बत नही है तो उस के पास चाहे दुनिया की सारी दौलत हो लेकिन उस की ज़िंदगी  उसे अच्छी नही लगती ।
दोस्तो आज मैं आपके सामने एक ऐसी ही प्रेम कहानी लेकर आया हु जिसे पड़ कर आप सोचने पर मजबूर हो जाएंगे ।
एक सहर में एक ब्यापारी का लड़का रहता था । जो कि बहुत ही नटखट था । बो बहुत ही सुंदर और चालाक था ।


 हमेसा मौज़ मस्ती । दिन भर दोस्तो के साथ रहना , खाना पीना , आशिकी और दिल लगी करना सब एक खेल सा था उस के लिए  लकडियाँ पटाना । उन से पैसे ऐठना सब उस के लिए आसान था । बो…

गरीब के दिल की ह्मदर्दी । कहानी एक सफर की

दोस्तो ये दुनिया बहुत बड़ी है । और इस दुनिया मे सब तरहा के लोग है ।



जैसे :- अमीर गरीब , काला गोरा , लाम्बा छोटा , मोटा पतला हर तरह के लोग रहते है और दिल सब के पास रहता है लेकिन ना जाने क्यों ये कमबख्त दिल है ना किसी किसी का सिर्फ धडकने का काम करता है और किसी किसी का दिल है जो दो काम करता है ।
एक तो खुद के लिए धड़कता और एक दुसरो के लिए ।
कैसे....????
चलो मैं बताता हूं  कैसे दुसरो के लिए धड़कता है । गर्मियों के दिन थे । स्कूल की छुट्टियां सिरु हो गई तो मैने और मेरे कुछ दोस्तो ने कहि घूमने का पिलान बनाया ।

 मेने अखबार में देखा के एक बस घुमाने के लिए जा रही है जो कि 3 हजार रुपये में एक सप्तहा घुमाएगी । तो मैने मेरे तीन दोस्तो को ये बात बताई और हम तैयार हो गए । हम चारो ने अपने बैग तैयार कर के जयपुर हो लिए राबाना हो लिए  और उस बस बाले से जा मिले जो कि सात दिन के टूर पर जा रही था । हम  चारों ने तीन तीन हजार रुपये जमा करा दिए । हमारे आने से बस की सारी सीटे फुल हो गई और बस राबाना हो गई । मेरे तीन दोस्त एक सीट पर थे और में एक सीट पर बैठा था जिस पर एक अंकल और एक आंटी और एक उनका छोटा सा बेबी था ।…