मैं जानता हूं आप छोटे काम करने के लिए नहीं बने| आप बिजनेस करने के लिए बने हो| तो बिना कोई देरी के जल्दी से BUSINESS सीखने के लिए इस लिंक पर क्लिक करो।

👉 👉👉   CLICK HERE 👈👈👈



जरूर आपको स्कूल से प्रदूषण पर निबंध ( Essay on pollution in hindi ) लिखने को मिला होगा - तभी आप इसे पढ़ रहे हैं वरना कौन पढ़ता है निबंध प्रदूषण पर - PUBG के युग में

लेकिन आपको चिंता करने की कोई जरूरत नहीं है आपके लिए प्रदूषण पर निबंध मैं लिख दूंगा और इतना अच्छा निबंध लिखूंगा कि आपको मैम से kiss भी मिल जाएगी

( Short and Long essay on pollution in Hindi )

चेतावनी - कृपया सर से दूर रहें वरना सर से भी पप्पी मिल सकती है

यह निबंध सिर्फ Class 1 to 12 तक के बच्चों के लिए ही है

मुझे लगता है आप बहुत Excited है मैम से Kiss लेने के लिए तो अब ज्यादा wait ना करवाते हुए यह रहा आपका पर्यावरण प्रदूषण पर निबंध

200 मजेदार हिन्दी पहेलियां संग्रह! 
3 छोटी कहानियां बच्चों के लिए


प्रदूषण पर निबंध हिंदी में ( Essay on pollution in Hindi )




#प्रस्तावना ( preface )

( Pollution ) प्रदूषण आज के विज्ञान युग में एक बहुत बड़ी समस्या है आज विज्ञान जितना हमारे लिए वरदान साबित हुआ है उतना ही अभिशाप

प्रदूषण आज एक ऐसा शब्द है जिसके बारे में आप, मैं, बच्चे, बूढ़े सभी जानते हैं और इस तथ्य को स्वीकर करते हैं 

प्रदूषण के कारण ही अब ना हमें शांत वातावरण, शुद्ध हवा, पानी, खाना मिलता है इसलिए हमें इस समस्या से तत्काल निपटने की आवश्यकता है

प्रदूषण पर इस निबंध में, हम देखेंगे कि प्रदूषण कितने प्रकार के हैं और इनके प्रभाव क्या- क्या हैं और इसे कैसे कम किया जाए

( In this essay on pollution, we will see what are the types of pollution and what are their effects and how to reduce it. )


1.) प्रदूषण क्या हैं? [ Short Essay on

pollution in Hindi ]


प्रदूषण का मतलब है - प्राकृतिक पर्यावरण में संतुलन न होना 


पर्यावरण प्रदूषित तब होता है  - जब प्रदूषक ( pollutents ) प्राकृतिक परिवेश ( Environment ) को दूषित करते हैं।

प्रदूषण हमारे पारिस्थितिक तंत्र के संतुलन को बिगाड़ता है, हमारी सामान्य जीवन शैली को प्रभावित करता है और मानव बीमारियों और ग्लोबल वार्मिंग (Global warming ) जैसे गंभीर समस्याओं को जन्म देता है।

हमारे जीवन में विज्ञान ( Science ) और टेक्नोलॉजी ( Technology ) के गलत इस्तेमाल से प्रदूषण अपने चरम पर पहुंच गया है हम बिना सोचे-समझे अपने प्राकृतिक पर्यावरण की सीमाओं का उलंघन कर देते हैं

हमें अपने प्रति प्रकृति के नियमों का पालन करना चाहिए और मिलकर प्रदूषण जैसे गंभीर समस्या का समाधान ढूंढना चाहिए 

इसलिए विभिन्न प्रकार के प्रदूषण ( types of pollution) और उनके जहरीले प्रभाव ( poison effect of pollution ) के बारे में हमारे जानना महत्वपूर्ण है

2.) प्रदूषण के प्रकार, कारण और प्रभाव 




वैसे तो प्रदूषण कई प्रकार के होते हैं

7 प्रमुख प्रदूषण है - वायु प्रदूषण, जल प्रदूषण, ध्वनि प्रदूषण, रोशनी प्रदूषण, प्लास्टिक प्रदूषण, रेडियोधर्मी प्रदूषण , मृदा प्रदूषण

#1.) वायु प्रदूषण ( Short Essay on air pollution in hindi )

वायु प्रदूषण  - सबसे खतरनाक प्रदूषण में से एक है यह प्रदूषण कार्बन मोनोऑक्साइड, कार्बन डाइऑक्साइड CO2, मिथेन आदि जैसी जहरीली गैसों के वायु में अधिक मात्रा मे मिलने से होता है जो कारखानों, सडको पर दौड़ती गाडी, जीवाश्म ईंधन, उद्योगो से निकले जेरीली गैस आदि के कारण होता है 

जिससे हमारे शरीर और फेफड़ों को बहुत नुकसान पहुंचता है और इससे कई गंभीर बीमारियां होती हैं दमा, खसरा, टी.बी. डिप्थीरिया, इंफ्लूएंजा आदि रोग वायु प्रदूषण का ही कारण हैं।

#2 .) जल प्रदूषण ( Short Essay on water pollution in hindi )

जल हमारे जीवन के लिए सबसे महत्वपूर्ण संसाधन है और यह हमारी जिम्मेदारी है कि हम इसे प्रदूषित होने से बचाए क्योंकि बिना जल जीवन संभव नहीं हालांकि हम प्रकृति के इस अमूल्य उपहार की सहारना नहीं करते और इसे बिना सोचे समझे प्रदूषित करते है

जल प्रदूषण के प्रमुख कारण हैं: औद्योगिक अपशिष्ट, खनन गतिविधियाँ, मल और अपशिष्ट जल, आकस्मिक तेल रिसाव, समुद्री डंपिंग, रासायनिक कीटनाशक और उर्वरक, जीवाश्म ईंधन का जलना, पशु अपशिष्ट, शहरी विकास, ग्लोबल वार्मिंग, रेडियोधर्मी कचरा, और सीवर लाइनों से रिसाव।


#3.) ध्वनि प्रदूषण  ( Short Essay on Sound Pollution in Hindi )

शोर और अप्रिय आवाजें प्राकृतिक संतुलन में अस्थायी व्यवधान का कारण बनती हैं। यह आमतौर पर औद्योगिकीकरण, सामाजिक घटनाओं, खराब शहरी नियोजन, घरेलू कामों, परिवहन और निर्माण गतिविधियों के कारण होता है। 

शोर प्रदूषण से सुनने की समस्याएँ, स्वास्थ्य सम्बंधी समस्याएँ, हृदय सम्बंधी समस्याएँ, नींद न आना और संचार में परेशानी होती है। इसके अलावा, यह वन्यजीवों को बहुत प्रभावित करता है। कुछ जानवर सुनवाई हानि से पीड़ित हो सकते हैं इसके प्रभाव को कम करने के लिए ध्वनि प्रदूषण को समझना बहुत महत्त्वपूर्ण है।

#4.)  प्रकाश प्रदूषण ( Short Essay on Light pollution in Hindi )

कुछ क्षेत्रों में प्रमुख अधिकि रोशनी के कारण प्रकाश प्रदूषण होता है। ( Artificial Light) कृत्रिम रोशनी दुनिया के Ecosystem को बाधित करती है। 

स्तनधारियों, पौधों, उभयचर, कीड़े और पक्षियों सहित कई प्राणियों पर उनके घातक प्रभाव हैं।  हर साल कई पक्षी प्रजातियां अनावश्यक रूप से प्रकाशित इमारतों से टकराकर मर जाती हैं।  इसके अलावा, कृत्रिम रोशनी बच्चे के कछुए को उनके मृत्यु तक ले जा सकती है।

#5.) रेडियोधर्मी प्रदूषण ( Short Essay on Radioactive pollution in hindi )

रेडियोधर्मी प्रदूषण पर्यावरण में रेडियोधर्मी पदार्थों की उपस्थिति है।  यह तब होता है जब यह बहुत खतरनाक होता है।  रेडियोधर्मी संदूषण परमाणु ऊर्जा संयंत्रों में उल्लंघन या रेडियोधर्मी रसायनों के अनुचित परिवहन के कारण हो सकता है। 

रेडियोधर्मी सामग्री को बहुत सावधानी से संभाला जाना चाहिए क्योंकि विकिरण जीवित जीवों में कोशिकाओं को नष्ट कर देता है जिसके परिणामस्वरूप बीमारी या मृत्यु हो सकती है

#6.)  मृदा प्रदूषण ( Short Essay On Soil pollution in Hindi )

मृदा प्रदूषण तब होता है जब मिट्टी में प्रदूषक, संदूषक और जहरीले रसायनों की उपस्थिति उच्च सांद्रता में होती है, जिसका वन्यजीवों, पौधों, मनुष्यों और भूजल पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है।  

औद्योगिक गतिविधि, अपशिष्ट निपटान, कृषि गतिविधियाँ, अम्ल वर्षा और आकस्मिक तेल रिसाव मिट्टी के प्रदूषण के मुख्य कारण हैं। 


इस प्रकार का संदूषण मनुष्यों के स्वास्थ्य को प्रभावित करता है, पौधों की वृद्धि को प्रभावित करता है, मिट्टी की उर्वरता को कम करता है और मिट्टी की संरचना को बदलता है।

#7.) प्लास्टिक प्रदूषण  ( Short Essay on Plastic pollution in hindi )

आज प्लास्टिक प्रदूषण आजकल हर जगह है। लोग इसे सिर्फ अपने आराम के लिए इस्तेमाल कर रहे हैं।  हालांकि, किसी को यह पता नहीं है कि यह हमारे ग्रह को कैसे नुकसान पहुंचा रहा है।  

हमें परिणामों के बारे में जागरूक होने की आवश्यकता है ताकि हम प्लास्टिक प्रदूषण को रोक सकें। प्लास्टिक का उपयोग करने से बचने के लिए बच्चों को उनके बचपन से सिखाया जाना चाहिए। इसके अलावा, सरकार को बहुत देर होने से पहले प्लास्टिक प्रदूषण को रोकने के लिए कड़े कदम उठाने होंगे।

3.) प्रदूषण का समाधान  ( Solution of pollution problems )

सबसे पहले हमें कुछ टिकाऊ परिवहन विकल्प बनाना चाहिए हमें जितना हो सके पैदल, साइकिल और इलेक्ट्रॉनिक कार जैसी vehicles का use करना चाहिए जो पर्यावरण को कम दूषित करते हैं हमें उनका पूरा लाभ उठाना चाहिए

लोगों को उर्जा का संरक्षण करना चाहिए जब आप कमरे में ना हो तो इलेक्ट्रॉनिक उपकरण जैसे पंखा लाइट आदि चीजें बंद कर देनी चाहिए जिससे ऊर्जा का संरक्षण हो और हमें रीसायकल ( Recycle) जैसी महत्वपूर्ण गतिविधियों पर विचार करने की जरूरत है कभी भी प्लास्टिक जैसी वस्तुओं को इधर-उधर ना फेके जिसे जानवरों को बहुत हानि पहुच सकती है और जिसे हमारी पृथ्वी दूषित होती है और जितना संभव हो सके प्लास्टिक को रिसाइकल के लिए दे

और हमें पानी जैसे संसाधन का संरक्षण भी करना चाहिए जहरीले कचरे को पानी में ना फेके और उसे उचित तरीके से निपटाने के तरीके ढूंढने चाहिए और कीटनाशकों का प्रयोग भी कम से कम करना चाहिए अपनी रोजमर्रा कामों में जितना हो सके प्राकृतिक पर्यावरण अनुकूल रसायनों का उपयोग करना चाहिए

4.) प्रदूषण का निष्कर्ष ( Conclusion )

पर्यावरण प्रदूषण मानव गतिविधियों के कारण होने वाली सबसे बड़ी समस्या में से एक है हमें इसका समाधान जितना जल्दी हो सके ढूंढ लेना चाहिए और अपने वंशजों को स्वस्थ जीवन जीने की गारंटी देनी चाहिए और स्वच्छ भारत जैसे पर्यावरण विकास अभियानों से जुड़ना चाहिए 

लोगों को जितना हो सके प्रदूषण रोकने के लिए प्रोत्साहित करें उन्हें इस समस्या के बारे में जागरूक करें और अपने मम्मी पापा दोस्तों को प्रदूषण से होने वाले खतरे के बारे में बताएं और उनके साथ विचार करें 

जितना हम पर्यावरण प्रदूषण के बारे में जागरूक होंगे उतना ही हम इसकी समस्या से बचने के तरीके ढूंढ पाएंगे


Essay on pollution in hindi video mai :



पर्यावरण प्रदूषण पर सबसे ज्यादा पूछे जाने वाले प्रश्न 

Q.1 प्रदूषण के प्रभाव क्या हैं?

A.1 प्रदूषण अनिवार्य रूप से मानव जीवन की गुणवत्ता को प्रभावित करता है। यह हमारे द्वारा पीने वाली हवा से पीने वाले पानी से लगभग सब कुछ ख़राब कर देता है। यह स्वस्थ जीवन के लिए आवश्यक प्राकृतिक संसाधनों को नुकसान पहुंचाता है।
सोर्स 

Q.2 प्रदूषण को कैसे कम किया जा सकता है?


A.2 प्रदूषण को कम करने के लिए हमें अलग-अलग कदम उठाने चाहिए। लोगो को कम से कम जेरीली गैस, कीटनाशक, गाड़िया आदि इस्तेमाल करना चाइये और उन्हें अधिक पेड़ लगाने चाहिए। ताकि हमारी पृथ्वी को हरियाली बना सकते हैं।


Q. 3 क्या हम प्रदूषण के निबंद को PDF में डाउनलोड कर सकते है ?


A.3  नहीं, अभी तो नहीं कर सकते सायद बाद में लिंक दाल दू 

Q. 4 पर्यावरण pollution कितने types के होते है ?

A. 4  वैसे तो आप कुछ भी ऐसा करते है जिसे पर्यावरण को नुक्सान पहुंचे वह पर्यावण  
प्रदूषण में ही आते है लेकिन  7 प्रमुख प्रदूषण है - वायु प्रदूषण, जल प्रदूषण, ध्वनि प्रदूषण, रोशनी प्रदूषण, प्लास्टिक प्रदूषण, रेडियोधर्मी प्रदूषण , मृदा प्रदूषण

Q. 5  क्या हमे Mam से हमे सच में Kiss मिलेगी ?

A . 5  ये आपके face  निर्भर करता है मुझे तो मिली ती सायद आपको भी मिल जा 


मैंने तो आपके सारे questions  का उत्तर दे दिया अब आप मेरे question का उत्तर दे 


.# 1 क्या आप को मेरा Essay on pollution in hindi अच्छा लगा क्या आप इसको शेयर करंगे मुझे कमेंट में जरूर बताये


Thanks