मैं जानता हूं आप छोटे काम करने के लिए नहीं बने| आप बिजनेस करने के लिए बने हो| तो बिना कोई देरी के जल्दी से BUSINESS सीखने के लिए इस लिंक पर क्लिक करो।

👉 👉👉   CLICK HERE 👈👈👈




Sher Aur Chuha ki kahani
sher aur chuha ki kahani

बचपन से ही हम शेर और चूहे की कहानियां ( Lion and Mouse Story in Hindi ) सुनते आ रहे हैं। शेर और चूहे की कहानी हमने स्कूल की किताबों में जरूर पड़ी होगी या अपने मम्मी, पापा या दादा, दादी से सुनी होगी। 

यह कहानियाँ हमें बहुत कुछ सिखाती है। और हमारे जीवन पर एक सकारात्मक प्रभाव छोड़कर जाती है। आज मैं आपके लिए 3 सर्वश्रेष्ठ शेर और चूहे की कहानियां लाया हूं। 

मुझे उम्मीद है कि आपको यह कहानियां अच्छी लगेगी। अगर आपको यह कहानियां अच्छी लगती हैं। तो आप अपने दोस्तों के साथ इसे जरूर शेयर करें। और हमें comment मे बताएं कि आपको यह चूहे और शेर की कहानी कैसी लगी।

200 मजेदार हिन्दी पहेलियां संग्रह! 
3 छोटी कहानियां बच्चों के लिए 


शेर और चूहे की सर्वश्रेष्ठ 3 कहानियां | Sher ki kahaniyan | 

sher aur chuhe ki hindi kahani
Sher aur chuhe ki hindi kahani


#1. ) चूहा बना शेर { शेर और चूहे की कहानियां } 


एक गांव में एक बहुत शक्तिशाली साधु रहते थे। वह बहुत ही दयालु थे। उनसे किसी का भी दुख देखा नहीं जाता था। एक दिन जब वह घर लौट रहे थे। तब उन्होंने देखा एक बिल्ली एक चूहे का पीछा कर रही है। यह देख उनसे रहा नहीं गया और उन्होंने अपनी शक्तियों का प्रयोग करके उस चूहे को बिल्ली में बदल दिया।

कुछ दिनों बाद जब पुजारी जी टहलने के लिए घर से बाहर निकले तब उन्होंने देखा कि एक बिल्ली के पीछे एक कुत्ता पड़ा हुआ है। उन्हें एहसास हुआ कि वह वही बिल्ली है। जिने उन्होंने कुछ दिन पहले ही चूहे से बिल्ली बनाया था। 

यह देख उन्हें उस चूहे पर बहुत तरस आया और उन्होंने सोचा अगर मैं इस बिल्ली को कुत्ते में बदल दूं तो इस कुत्ते को कभी कुत्तों से डरने की जरूरत नहीं पड़ेगी।और उन्होंने अपनी शक्तियों का उपयोग करके उस बिल्ली को कुत्ते में बदल दिया।

( Sher aur Chuha ki kahani )

तभी अचानक से उन्होंने ध्यान दिया कि एक शेर उस कुत्ते के पीछे पड़ा हुआ था। उन्होंने सोचा अगर क्यों ना मैं इस कुत्ते को शेर में बदल दूं तो उस कुत्ते को कोई भी दिक्कत सहने को नहीं मिलेगी और नगर वासियों को भी संकट नहीं रहेगा। 

ऐसा सोचकर उन्होंने उस कुत्ते को शेर में बदल दिया। वह चूहा शेर बन बहुत खुश हुआ। और पुजारी जी को दिल से प्रणाम किया। साधु को भी यह देख बहुत खुशी हुई।

लेकिन नगरवासी शेर की तरफ देखकर बहुत हंसते और कहते - अरे यह तो पहले चूहा था। पुजारी जी ने अपनी शक्तियों से इसे शेर बनाया।

लेकिन कोई भी उस शेर की इज्जत नहीं करता था। सब उसका मजाक उड़ाते थे। यह सब सुनकर शेर को बिल्कुल अच्छा नहीं लगता था। उसने सोचा कुछ ऐसा करना पड़ेगा जिससे सब लोग मुझसे डरे और मेरी इज्जत करें।

( Lion and the mouse story In Hindi )


शेर ने एक बहुत गलत निर्णय लिया - जिस पुजारी जी ने उसे शेर बनाया उन्हीं को हानि पहुंचाना चाहता था। शेर पुजारी जी पर हमला करने के लिए तैयार हो रहा था और साधु जी को इस बात का पता चल गया।


यह देख साधु जी ने बोला - मैंने तुम्हें चूहे से शेर बनाया और तुम मुझे ही हानि पहुंचाने के विचार से आए हो। बड़े निकम्मे हो और शेर बनने के लायक नहीं हो। अब तुम्हें दंड मिलेगा और साधु जी ने कहा -  जाओ हमेशा के लिए चूहे बन जाओ।

भूत की कहानी : ऑटो में चुड़ैल के साथ 
दादी मां की कहानियां 


नैतिक शिक्षा  -  दुसरो की बात का इतना भी बुरा मत मनो की आपका ही नुक्सान हो जाये।


Moral Of This Hindi story

Do not feel so bad about others that you will be hurt


#2.) शेर और चूहा की कहानी | Lion and Mouse story in Hindi |

Lion and mouse story in hindi
Sher aur chuha

एक जंगल में एक शेरों का झुंड रहता था। शेर राजा मजे से धूप सेख रहा था। और अपने बच्चों के साथ खेल रहा था। यह देख शेरों की रानी बहुत खुश हो रही थी।

वहीं पास में एक चूहों का झुंड भी रहता था। और चूहो का राजा दूर से शेरों के बच्चों की शरारत देख खुश हो रहा था। तभी एक चूहा अपने बिल से निकल कर बाहर आया 

वह शेरों के बच्चों के साथ खेलना चाहता था। जब उसके इरादों के बारे में चूहे के राजा को पता चला तो उसने उस शरारती चूहे को वहीं रुक जाने के लिए कहा। 

( चूहे और शेर की कहानी )

लेकिन शरारती चूहे ने राजा की एक ना सुनी और भागता हुआ शेरों के राजा के पास चला गया। और उनकी दाढ़ी पर उछल कूद करने लगा यह देख शेरों के राजा को बहुत गुस्सा आया और उसने अपने पंजे मारकर उस शरारती चूहे को जमीन पर गिरा दिया। 

शरारती चूहा बुरी तरीके से जख्मी हो गया। यह सब देख चूहे का राजा भागा और शेर के सामने आकर बोला - बच्चे को माफ कर दीजिए शेरों के राजा। यह शरारती चूहा नादान है और शरारती चूहे की तरफ देखकर उसे जाने के लिए कहा और शेरों की राजा से माफी मांगने लगा और कहा इस बच्चे को उसकी गलती के लिए माफ कर दो तभी शेरों के राजा ने बोला इस बच्चे ने बहुत बड़ी गलती की है इसे जरूर सजा मिलेगी मैं इसे खा जाऊंगा तभी चूहो के राजा ने बोला इसके बदला मुझे खा लीजिए। 

शेरों का राजा हंसा और बोला मैं तुम दोनों को खा जाऊंगा। यहां सुन चूहों का राजा अचानक रुका और बोला तब तो मेरे पास कोई चारा नहीं है। सिवा इसके कि आप से लड़कर अपनी प्रजा की रक्षा करू या सुन शेरों के राजा को बहुत हैरानी हुई। 

तभी कुछ देर रुक शेरों के राजा ने कहा मैं बहुत खुश हुआ। तुम्हारी बहादुरी देखकर और तुम्हारी प्रजा के प्रति तुम्हारा प्यार देखकर।

मैं खुश होकर तुम दोनों को माफ करता हूं। यह सुनकर चूहों का राजा बहुत खुश हुआ और बोला आपका बहुत-बहुत शुक्रिया महाराज आपकी जय हो। अगर आपको कभी भी हमारी मदद चाहिए हमें सेवा का अवसर जरूर दीजिएगा।

( Sher aur chuha in Hindi Story )

और शेर और चूहे में बहुत अच्छी दोस्ती हो जाती है।कुछ दिन अच्छे बीतने के बाद उस जंगल में शिकारी आ जाते हैं। और शेरों के झुंड पर हमला कर देते हैं। सभी शेरों को जाल में फंसा कर वहां से ले जाने की तैयारी करते हैं। यह सब देख चूहो का राजा अपनी पूरी सेना बुलाकर उन शेरों की मदद करने के लिए बुलाता है। सभी मिलकर जिसमें शेरों के राजा और उनके बच्चे फसे रहते हैं।  सारे चूहे मिलकर उनका जाल कतरने लगते हैं। और कुछ मिनटों में ही सारे शेरों को आजाद कर देते हैं। यह सब देख शेरों का राजा बहुत खुश होता है और उने उनकी मदद के लिए धन्यवाद देता है। 

नैतिक शिक्षा - हमें हमेशा मिलजुल कर रहना चाहिए ताकि हम सब एक दूसरे की मदद पाये


Moral of this Hindi story

We should always be together so that we all help each other.


#3.)  शेर और चूहे की दोस्ती की कहानी | शेर की कहानी |


sher aur chuhe ki kahaniyan
Lion and Mouse story in Hindi

एक जंगल में एक बहुत खुखार शेर रहता था। वह हमेशा अकेला रहता था। उसे कोई बात नहीं करता था सब उससे बहुत डरते थे। 

लेकिन एक समय जब वह जंगल में शिकार कर रहा था। तो उसके पैर में एक बहुत बड़ा कांटा चुभ गया। वह दर्द के मारे तड़प रहा था। लेकिंन कोई भी डर के मारे उसकी मदद करने नहीं जा रहा था। 

सब उससे बहुत डर रहे थे। लेकिन कहीं से एक घूमता हुआ चूहा आया। उससे शेर का दर्द देखा नहीं गया। और वह डरता हुआ शेर के पास गया। और बोला मैं आपकी मदद कर सकता हूं। महाराज लेकिन आप कृपया मुझे ना मारिएगा। तभी शेर बोला - भला मैं तुम्हें क्यों मारूंगा तुम मेरी मदद कर रहे हो। तो मैं तुमसे वादा करता हूं अगर जब भी तुम्हें मेरी मदद की जरूरत पड़ेगी। मैं तुम्हारी मदद जरूर करूंगा। चूहा बहुत खुश हुआ और उसने शेर के पैर में चुबे  काटे को निकाल दिया। 

( Sher aur Chuha ki kahaniyan )

शेर बहुत ही खुश हुआ और वहां से उसका धन्यवाद करके चला गया। कुछ दिन बाद उस चूहे के पीछे कुछ खूंखार जंगली बिल्लियां पड़ गई। जिससे चुहा जान बचाकर शेर के पास पहुंचा और शेर से उसकी मदद करने के लिए बोला। 

शेर ने उन बिल्लियों को भगाकर उसकी उनकी मदद की। चूहे ने शेर को धन्यवाद कहा। शेर ने चूहे से कहा तुम हमेशा मेरे साथ ही क्यों नहीं रहे थे। मैं तुम्हारी रक्षा करूंगा। और तू मेरी मदद कर देना। 

( Lion and mouse story in Hindi )

हम दोनों साथ रहेंगे तो हमें कोई दिक्कत नहीं रहेगी  चूहे को यह सुनकर बहुत खुशी हुई। और उसने शेर के साथ रहने का ही फैसला कर लिया  अब चूहे को किसी से भी डरने की कोई जरूरत नहीं थी। क्योंकि अब वह शेर का दोस्त था दोनों मिलकर खूब मजे करते और एक दूसरे की सहायता करते।

3 Best kahaniya in hindi
पहला किस स्कूल प्रेम कहानी 


नैतिक शिक्षा  -   हमेशा  मुसीबत आने दुसरो  मदद  करो ताकि जब तुम मुसीबत में हो तो  दूसरे  आपकी मदद करे। 

Moral of this Hindi Story 

Always help others in times of trouble so that when you are in trouble, others will help you



#4. )Bonus Story: { Sher Aur chuha Ki Prem Kahani }

एक जंगल में एक बहुत सुंदर चूहा रहता था। वह बहुत अच्छा संगीत गाया करता था। सभी जानवर उसकी बहुत प्रशंसा करते। लेकिन जब भी वह चूहा संगीत सुनाता।

जंगल का शेर वहाँ संगीत सुनने जरूर आता। और संगीत को बहुत ध्यान से सुनता और दिल से संगीत की तारीफ करता।

देखते ही देखते शेर और चूहे में बहुत अच्छी दोस्ती हो गई। दोनों साथ में खेलते, कूदते, और मजे करते।

और ऐसे ही कहीं दिन बीत गए और दिन बीतने के साथ-साथ कहीं ना कहीं शेर को चूहे से प्यार होने लगा था।



अगर आपको यह शेर और चूहा की कहानी अच्छी लगी हो तो अपने दोस्तों के साथ WhatsApp  पर जरुर शेयर करें क्योंकि आप तो कहानियां पढ़ कर आगे बढ़ जाएंगे लेकिन जो कहानियां लिखने वाला है वह पीछे रह जाएगा।  जाने से पहले उसकी मदद जरूर करें।
इस कहानी को शेयर करें

और  हर मंगलवार को हनुमान चालीसा पढ़ना ना भूले।

Thanks